UP Assembly Election 2022: वर्चुअल रैली के लिए बीजेपी का ‘मेगा प्लान’, विरोधियों को ऐसे हराएगा

UP Assembly Election 2022: वर्चुअल रैली के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की तैयारी कर चुकी है. कोविड की वजह से लगे प्रतिबंधों का असर बीजेपी के चुनाव प्रचार पर कम होगा.

UP Assembly Election 2022

UP Assembly Election 2022: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने चुनाव आयोग (ईसी) की ओर से लगाई गई पाबंदियों के बीच ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने के लिए मेगा प्लान किया है. वर्चुअल रैली को लेकर बीजेपी ने पूरी तैयारी कर ली है. वर्चुअल रैली के लिए कई जगहों पर बड़े स्क्रीन लगाए जाएंगे।

क्या है बीजेपी का ‘मेगा प्लान’?

सूत्रों के मुताबिक 31 जनवरी को पीएम नरेंद्र मोदी पहली वर्चुअल रैली को संबोधित करेंगे. इस वर्चुअल रैली में पीएम मोदी पहले और दूसरे चरण के चुनाव के लिए विधानसभाओं के 100 सर्कल के लोगों को संबोधित करेंगे.

See also  Jio vs Airtel vs Vi : जानिए किसका 30 दिन की वैलिडिटी वाला प्लान कम कीमत में दे रहा है ज्यादा फायदा

फिजिकल रैली पर लगा हुआ है प्रतिबंध

बता दें कि चुनाव आयोग ने देश में मौजूदा कोविड-19 स्थिति को देखते हुए शारीरिक रैलियों पर रोक लगा दी है और राजनीतिक दल वर्चुअल रैलियां कर रहे हैं. इस बीच, चुनाव आयोग अब इन रैलियों पर खर्च किए गए पैसे पर कड़ी नजर रखे हुए है.

चुनाव आयोग की नजर अभियान पर

बता दें कि चुनाव आयोग ने इस साल 31 जनवरी तक शारीरिक रैलियों पर रोक लगा दी है और उसके बाद स्थिति की समीक्षा की जाएगी. सूत्रों के मुताबिक चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक प्रचार सामग्री पर नजर रखे हुए हैं.

See also  Manipur Assembly Election 2022: मणिपुर में सभी 60 सीटों पर बीजेपी ने उतारे उम्मीदवार, किसे-कहां से मिला टिकट

चुनाव आयोग ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कंपनियों को रैलियों पर प्रतिबंध के कारण भारी ऑनलाइन प्रचार के बीच स्वैच्छिक आचार संहिता का अनुपालन सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया है।

गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव के लिए खर्च की सीमा बढ़ा दी है और 6 जनवरी 2022 को जारी नए आदेश के मुताबिक मणिपुर और गोवा में एक उम्मीदवार के खर्च की अधिकतम सीमा 28 लाख रुपये तय की गई है. अन्य तीन राज्य। पंजाब, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के लिए 40 लाख रुपये निर्धारित किए गए हैं।

Leave a Reply