Ukraine-Russia War 2022: रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध का भारतीय अर्थव्यवस्था पर कैसा होगा असर, जानें यहां विस्तार से

Ukraine-Russia War : रूस-यूक्रेन युद्ध की बीच भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर चिंताएं सिर उठा रही हैं क्योंकि इस युद्ध से भारत पर भी नकारात्मक असर आने की आशंका है. जानें किन वजहों से इंडियन इकोनॉमी के लिए ये युद्ध खतरनाक है.

Ukraine-Russia War

Ukraine-Russia War : आखिर हुआ तो वही हुआ जिसकी आशंका थी. रूस ने आज यूक्रेन पर सैन्य हमला किया और इस खबर का भारतीय शेयर बाजार पर ऐसा असर हुआ कि बाजार खुलते ही सेंसेक्स 1800 अंक गिर गया। निफ्टी में 500 अंक से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है. इस दौरान तीसरे विश्वयुद्ध के बीच भारत पर चिंता के बादल मंडराने लगे हैं।

See also  Paper Bottle : भारत में बनी कागज की बोतल ने दुनिया में मचाया तहलका, जानिए क्या है इसमें?

एशियाई बाजारों में आज जोरदार गिरावट (Ukraine-Russia War )

शुरुआती रिपोर्टों ने आज यह स्पष्ट कर दिया कि रूस ने यूक्रेन पर एक बैलिस्टिक मिसाइल हमले सहित कई क्षेत्रों में बम दागे। यूक्रेन ने भी रूसी हमले का जवाब देते हुए दावा किया है कि उसने लुहान्स्क क्षेत्र में पांच रूसी विमानों और एक हेलीकॉप्टर को मार गिराया है। इन सबके बीच तीसरे विश्व युद्ध की आशंका से वैश्विक बाजार डरे हुए हैं और आज सुबह से सभी एशियाई बाजार भी गिरावट के लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं.

भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा बड़ा असर

इस युद्ध का भारतीय अर्थव्यवस्था पर गहरा असर देखा जा सकता है क्योंकि अगर यह युद्ध तीसरे विश्व युद्ध की ओर बढ़ता है तो निश्चित रूप से व्यापारिक गतिविधियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। सबसे पहले कच्चे तेल की कीमतें जो पहले ही 101 डॉलर प्रति बैरल तक जा चुकी हैं, उनमें आग लग सकती है और यह भारत के लिए काफी नकारात्मक साबित होगा। देश का आयात व्यय बढ़ेगा, जिससे व्यापार घाटा भी बढ़ेगा। फिलहाल तेल और गैस विपणन कंपनियों ने कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों का बोझ ग्राहकों पर नहीं डाला है, बल्कि इसकी वजह आंतरिक है. माना जा रहा है कि 10 मार्च के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में एक बार की बड़ी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी.

See also  Petrol Diesel की बिक्री बढ़ी : जबरदस्त मांग के कारण भारत में पेट्रोल डीजल की बिक्री कोरोना महामारी से पहले के स्तर से अधिक हो गई.

देश में बढ़ेगी महंगाई!

तेल के दाम बढ़ने से माल ढुलाई भी प्रभावित होगी और इससे सब्जी-फल, दाल, तेल आदि खाद्य पदार्थ महंगे होने की आशंका है. रूस-यूक्रेन के बीच युद्ध भारत में बढ़ती महंगाई के संकेत देने लगा है। अगर महंगाई बढ़ती है तो यह रिजर्व बैंक के अनुमानित आंकड़ों से ऊपर चली जाएगी और फिर देश का केंद्रीय बैंक दरें बढ़ाने पर मजबूर हो जाएगा।

New Delhi News 2022 : अगर आपके पास भी हैं दो बर्थ सर्टिफिकेट तो हो जाएं सावधान, हाईकोर्ट ने दिया है ये फैसला

Leave a Reply