इन बातों का ध्यान रखकर करे कपास की खेती, होगा तगड़ा मुनाफा

कपास की खेती | इन दिनों में किसान अपने खेत तैयार कर सकते हैं जिन किसानों के खेत खाली रह गए हैं. यह वह मौसम है जब कपास की बिजाई की जाती है. बिजाई के लिए 15 मई तक का समय अच्छा है. किसान जल्दी से जल्दी अपने खेतों को बिजाई के लिए तैयार कर सकते हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक खेत बीटी कपास कि बिजाई के लिए अच्छे माने गए हैं. कपास की बिजाई करते समय किसानों को एक बात याद रखनी चाहिए कि बिजाई की प्रक्रिया पूर्व से पश्चिम की ओर करें.

साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कटार से कतार की दूरी तथा पौधे से पौधे की दूरी 100 गुना 45 सेंटीमीटर या 60 सेंटीमीटर रखें. पिछले साल के दौरान कपास की फसल में बीमारी व अन्य समस्या देखने को मिली थी. यदि किसान चाहते हैं कि उनकी फसल बर्बाद ना हो तो उन्हें वैज्ञानिकों द्वारा बताए गए निर्देशों के अनुसार ही खेती करनी चाहिए. अगर किसान वैज्ञानिकों द्वारा बताए गए निर्देशों के अनुसार कपास की खेती करते है तो बीमारी एवं अन्य समस्याओं का खतरा कम होगा और उत्पादन अधिक से अधिक होगा.

  • बीटी कपास बिजाई के दौरान 1 एकड़ के खेत में एक बैग यूरिया बैग डीएपी 40 किलो पोटाश व 10 किलो जिंक सल्फेट ही तैयार करने के दौरान डालें.
  • बीटी कपास की 2 पैकैट प्रति एकङ के हिसाब से बिजाई करें.
  • कतार से कतार की दूरी पौधे से पौधे की दूरी लगभग 100 गुना व 45cm से 60cm होनी चाहिए.
  • जहां तक संभव हो किसान 15 मई तक बीटी कपास की बिजाई पूरी कर ले.
  • जहां बीटी कपास में अधिक पानी की आवश्यकता होती है वही पास में पहला पानी 45 से 50 दिनों में ही लगाएं. रेतीले इलाकों में जहा कपास का पौधा उगने के 4-5 दिन बाद है पानी से सिंचाई करें.
  • पिछले साल जिन खेतों में मुंडे की समस्या थी खेतों की लकड़ियों पत्तों को नष्ट कर दे.
  • कपास की खेती के शुरुआती दौर में ज्यादा जहरीले कीटनाशकों का प्रयोग ना करें क्योंकि इससे मित्र कीटों को भी खतरा हो सकता है, वह भी नष्ट हो सकते हैं.
See also  किसानों को प्याज की खेती करने पर 8 हजार रूपे का लाभ होगा, देखें पूरी जानकारी

यदि किसान ऊपर बताई गई सभी बातों का ध्यान रखते हैं तो वह कपास की फसल की पैदावार को अधिक बढ़ा सकते हैं. जिससे किसानों को तो फायदा होगा तथा कपास के बढ़ते उत्पादन से देश को भी फायदा पहुंचेगा. यदि किसान चाहते हैं कि पिछले साल की तरह उनकी फसलें बर्बाद ना हो तो वह इन बातों का ध्यान रखे. कपास के बीज खरीदते समय तथा अपने खेत को तैयार करते समय विशेषज्ञ की सलाह अवश्य ले.

यह एक बेहतर ऑप्शन है उन किसानों के लिए जिन्होंने अभी तक अपने खाली पड़े खेतों में कोई फसल नहीं लगाई है तथा वह अब कपास की फसल उगा सकते हैं. यह मौसम कपास की खेती के लिए खास है.