महिलाओं के नहाने के तरीके पर अब तालिबान ने जारी किया फरमान, दिया यह आदेश

नई दिल्ली | उज्बेकिस्तान की सीमा से लगे उत्तरी बल्ख प्रांत में तालिबान अधिकारियों ने महिलाओं के लिए सभी सामान्य स्नानघरों को बंद करने की घोषणा की है। खामा प्रेस ने यह जानकारी दी है।

महिलाओं पर बढ़ा प्रतिबंध

जैसे-जैसे अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात ने देश भर में जड़ें जमा ली हैं, खासकर महिलाओं पर उनके प्रतिबंध भी बढ़ रहे हैं। यह निर्णय धार्मिक विद्वानों और प्रांतीय अधिकारियों ने सर्वसम्मति से लिया है।

हिजाब के पालन पर जोर

रिपोर्ट के मुताबिक, नए फैसले के आधार पर इस्लामिक हिजाब का पालन करने वाली महिलाएं सामान्य स्नान में नहीं बल्कि निजी स्नान में ही स्नान कर सकती हैं। बल्ख प्रांत में सदाचार और पुण्य की रोकथाम निदेशालय के प्रमुख ने कहा कि यह निर्णय धार्मिक विद्वानों (उलेमा) के परामर्श के बाद लिया गया था।

See also  पीपीएफ खाताधारकों के लिए बड़ी खुशखबरी! नए बजट में वित्त मंत्री कर सकती हैं ये बड़ी घोषणा

निदेशालय का प्रमुख बयान

निदेशालय के प्रमुख ने कहा, ‘चूंकि लोगों के घर में आधुनिक स्नानघर तक पहुंच नहीं है, इसलिए पुरुषों को सामान्य स्नान करने की अनुमति है, लेकिन महिलाओं को हिजाब पहनकर निजी स्नान में जाना चाहिए।’

युवा लड़कों पर भी प्रतिबंध

कम उम्र के लड़कों को भी सामान्य स्नान करने से प्रतिबंधित किया जाता है और स्नानघर में शरीर की मालिश भी प्रतिबंधित है। इससे पहले, पश्चिमी हेरात प्रांत में स्थानीय अधिकारियों ने महिलाओं के लिए सामान्य बाथरूम को अस्थायी रूप से बंद कर दिया था।

Leave a Reply