हरियाणा प्रदेश में 25 लाख एकड़ भूमि की होगी सोल टेस्टिंग बढ़ेगी किसानों के खेती की उर्वरा शक्ति 👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

आपको बता दें , कि हरियाणा प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई में हरियाणा सरकार अब खेतों की उर्वरा शक्ति बढ़ाने के लिए प्रयास कर रही है । और इसी कड़ी में मुख्यमंत्री ने हाल ही में 40 नई मिट्टी जांच मतलब कि सोल टेस्टिंग लैब का उद्घाटन कर दिया है । वहीं सरकार ने इस वित्त वर्ष में 25 लाख एकड़ भूमि की जांच का लक्ष्य भी निर्धारित कर दिया है । और अधिकारियों का यह कहना है कि जमीन की सेहत को सुधारने के लिए कोशिशें की जा रही हैं । और इन कोशिशों के तहत अगले 3 सालों के भीतर 75 लाख एकड़ जमीन की सेहत सुधारी जा सकेगी और उन्हें अभी कहा है। कि ऐसा करने से जमीन की उपजाऊ शक्ति बढ़ने वाली है और अधिक पैदावार भी होगी। जो कि किसानों के लिए फायदेमंद साबित होगी ।

 

See also  शहर में कूड़ा बीनने वाली लड़की के साथ किया दुष्कर्म

Soil of 25 lakh acres of agricultural land in Haryana will be tested this year - TheFactNews

आपको यह बता कर सूचित कर दें, कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने गत दिवस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरियाणा प्रदेश में 40 नई मिट्टी जांच प्रयोगशाला यानी कि सोल टेस्टिंग लैब खोले हैं । आपको बता दें कि कृषि मंत्री जेपी दलाल और हरियाणा वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के चेयरमैन नयनपाल रावत की मौजूदगी में मिट्टी जांच प्रयोगशाला की शुरुआत की गई है। और हरियाणा सरकार ने हरियाणा प्रदेश मैं मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं का जाल बिछाने की योजना बनाई है । और इसी कड़ी में 40 नई प्रयोगशाला का उद्घाटन प्रारंभ कर दिया गया है ।

किसानों को अब अपने खेत की मिट्टी की जांच कराने की सुविधा उनके घर के नजदीक मिलेगी। अभी तक सूक्ष्म तत्वों के विश्लेषण की सुविधा सभी प्रयोगशालाओं में नहीं थी, परंतु अब यह सुविधा प्रत्येक प्रयोगशाला में उपलब्ध होगी। 75 लाख भूमि की मृदा जांच के दौरान मृदा स्वास्थ्य जांच कार्ड प्रदान किए जाएंगे, जिनमें मिट्टी की पूरी स्थिति के बारे में जानकारी होगी तथा उसमें कम मात्रा में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की कमी को दूर किया जाएगा।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल, कृषि मंत्री जेपी दलाल और चेयरमैन नयनपाल रावत के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंसग में केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, राज्य सरकार के मंत्री, सांसद और विधायक भी जुड़े। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आय डबल करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वप्न को साकार करने का लक्ष्य हासिल करना है। इसी के तहत प्रदेश में मिट्टी जांच प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं ताकि किसानों को मिट्टी की जांच के आधार पर यह अवगत करवाया जा सके कि किस फसल की बिजाई करना किसानो के हित में होगा।

Leave a Reply