छोटे दुकानदारों ,मजदूरों को मिलेगी आर्थिक सहायता जानें पूरी खबर

चंडीगढ़ | इस कोरोना महामारी ने बहुत से लोगों का रोजगार छीन लिया है कोरोना के आने के बाद निजी क्षेत्रों के मजदूरों में भी कटौती हुई है. रोजगार के बहुत से साधन बंद हो गए हैं, इसलिए हरियाणा सरकार ने कोरोना से प्रभावित हुए मजदूर भाइयों एवं दुकानदारों को आर्थिक सहायता प्रदान करने की बात कही है. हरियाणा प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी द्वारा कहा गया है कि ऑटो रिक्शा चालकों ,मजदूरों, छोटे दुकानदारों एवं असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले व्यक्तियों को 5000-5000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी. ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कोरोना महामारी के कारण लगे लोगडाउन में इन्होंने आर्थिक संकट का सामना किया है तो ऐसे तबके के लोगों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया है.

See also  हरियाणा के इस गांव में लड़कों से ज्यादा लड़कियां, कबड्डी से लेकर शिक्षा तक अव्वल

मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के 600 दिन पूरे होने के दिन पर एक संवाददाता सम्मेलन में घोषणा की है कि वह बीपीएल परिवार जिन्होंने 18-50 आयु वर्ग में अपने परिवार के एक सदस्य को कोरोना महामारी की वजह से खो दिया है, उन्हें दो- दो लाख की राशि दी जाएगी .मुख्यमंत्री ने 2021-22 की पहली तिमाही में संपत्ति कर में छूट और बिजली बिल में कमी सहित कई अन्य लाभों की भी घोषणा की.

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने कहा है कि निर्माण श्रमिकों और ऑटो रिक्शा चालकों जैसे क्षेत्रों में लगे 12 लाख परिवारों को 5000-5000 रुपए की वित्तीय सहायता दी जाएगी. यह पैकेट 600 करोड रुपए का है मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि मजदूरों को योजना का लाभ मिल सके एक पोर्टल तैयार किया जाएगा और इस पोर्टल पर पंजीकरण की प्रक्रिया 18 जून से शुरू की जाएगी. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि आशा कार्यकर्ता और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में लगे लोगों को भी 5000-5000 रुपए दिए जाएंगे. उन्होंने कहा है कि इस पर 11 करोड़ रुपए का खर्चा आएगा. इसी संदर्भ में छोटे दुकानदारों के लिए 150 करोड रुपए के पैकेज की घोषणा की गई है.

Leave a Reply