गर्ल्स हॉस्टल में लगाया सीक्रेट कैमरा, मोबाइल पर देखता था लड़कियों की हर हरकत

भिलाई | भिलाई के एक निजी गर्ल्स हॉस्टल में रहने वाली कॉलेज की छात्राएं उस समय सहम गईं. जब उन्हें पता चला कि उनके छात्रावास में गुप्त सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और उनके संचालक द्वारा गुप्त सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

दरअसल, भिलाई स्टील प्लांट के कर्मचारी और एक निजी गर्ल्स हॉस्टल के संचालक फगन लाल पवार पर खुफिया कैमरे लगाकर गर्ल्स हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं की निजी वीडियो और तस्वीरें लेने का आरोप लगाया गया है. फगनलाल भिलाई स्टील प्लांट द्वारा निर्मित बस्ती के सेक्टर-5 में रहते हैं और आशीष नगर में मकान बनवाया है। आरोपी आशीष नगर के घर में गर्ल्स हॉस्टल चला रहा था। छात्रावास में 5 कॉलेज के छात्र पेइंग गेस्ट के रूप में हैं।

See also  Sirsa News Hindi : खेल स्टेडियम में मिला पुलिसकर्मी का शव, जानिए पूरा मामला

सफाई के दौरान दिखाई दिए कैमरे

सफाई के दौरान हॉस्टल की छात्राओं ने देखा कि दीवार के एक कोने में कुछ फंसा हुआ है। लड़कियों ने दीवार की जांच की तो एक कोने में खुफिया कैमरे निकले। दीवारों में लगे खुफिया कैमरों को देखकर छात्राओं के होश उड़ गए। इसके बाद छात्राएं हॉस्टल संचालक के पास पहुंचीं और संचालक से डीवीआर मांगा लेकिन उसने नहीं दिया। हॉस्टल संचालक फगनलाल ने मामले को छिपाने की काफी कोशिश की लेकिन लड़कियां नहीं मानीं। छात्राओं ने नव्या थाने में शिकायत दर्ज कराई है और पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।

हॉस्टल संचालक की थी गंदी नजर

आरोपी कभी भी अपने मोबाइल से हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं की गतिविधियों पर नजर रखता था। खुफिया कैमरों की मदद से वह लगातार छात्राओं पर नजर रखता था। छात्राओं को इसकी जानकारी मिलते ही छात्राओं ने हॉस्टल संचालक से सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर मांगा लेकिन संचालक ने डीवीआर देने से मना कर दिया. जिसके बाद छात्राओं ने थाने पहुंचकर छात्रावास संचालक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस छात्रावास संचालक के खिलाफ धारा 354, 66-ई के तहत अपराध दर्ज कर डीवीआर की जांच कर रही है।

See also  पाकिस्तान में हिंदू परिवार की लड़की ने रचा इतिहास,73 साल में पहली बार

11 दिनों का डेटा उपलब्ध

शिकायत के बाद पुलिस ने छात्रावास की जांच की और छात्रावास संचालक के पास से खुफिया कैमरा व डीवीआर जब्त किया. जिसमें 11 दिन का वीडियो डेटा मिलता है। छात्रावास तीन साल से संचालित हो रहा है, तो कैमरे कब से लगाए गए। आरोपी से यह भी पूछताछ की जा रही है कि उसके सामने डीवीआर में स्टोरेज कहां है।

Leave a Reply