RBI New Guidelines: ATM से पैसा निकालने का बदला तरीका, RBI ने आपके फायदे के लिए लागू किए नए नियम

RBI New Guidelines | धोखाधड़ी और कार्ड क्लोनिंग की बढ़ती घटनाओं को कम करने के लिए RBI ने ATM से पैसे निकालने के नियमों में बदलाव किया है. इसके लिए आरबीआई की ओर से सभी बैंकों और एटीएम ऑपरेटरों को आदेश दे दिए गए है.

डिजिटल ट्रांजैक्शन के दौर में एटीएम से पैसे निकालने वालों की संख्या में कमी आई है. लेकिन अगर आप अक्सर एटीएम से पैसे निकालते हैं तो यह खबर आपके बहुत काम की है. दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों और एटीएम ऑपरेटरों को एटीएम से कार्डलेस निकासी का आदेश दिया है.

Table of Contents

नकद निकासी का तरीका पूरी तरह बदल जाएगा

आरबीआई के इस नियम के लागू होने के बाद एटीएम से पैसे निकालने का तरीका पूरी तरह बदल जाएगा. इसका फायदा यह होगा कि कार्ड क्लोनिंग, कार्ड स्किमिंग और अन्य बैंक धोखाधड़ी में कमी आएगी. कार्डलेस ट्रांजेक्शन में कैश निकालने के लिए आपको डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जरूरत नहीं होगी. इसमें आप Paytm, Google Pay, Amazon Pay या PhonePe जैसे UPI पेमेंट एप जैसे एप के जरिए ही एटीएम से पैसे निकाल पाएंगे.

एनपीसीआई को यूपीआई एकीकरण निर्देश

आरबीआई के निर्देश के बाद अब सभी बैंकों और एटीएम ऑपरेटरों को कार्डलेस कैश निकासी के लिए इंतजार करना होगा. रिजर्व बैंक द्वारा लागू नियमों के तहत कोई भी बैंक किसी भी बैंक के खाताधारक को यह सुविधा दे सकता है. इसके लिए एनपीसीआई को यूपीआई इंटीग्रेशन के निर्देश मिले हैं.

See also  Online Transaction : सावधान! साइबर चोर देख रहे हैं आपका बैंक अकाउंट, RBI अलर्ट

प्रभार में कोई परिवर्तन नहीं

आपको बता दें कि वर्तमान में एटीएम कार्ड पर लगने वाला शुल्क बदलाव के बाद भी वही रहेगा. इनमें कोई बदलाव नहीं किया जाएगा. इसके अलावा कैशलेस ट्रांजेक्शन (नकद निकासी नियम) से पैसे निकालने की सीमा भी पहले की तरह ही रहेगी.

कैसे काम करता है यह फीचर

कार्डलेस ट्रांजैक्शन की सुविधा फिलहाल कुछ ही बैंकों के एटीएम पर उपलब्ध है. नई व्यवस्था के तहत अब ग्राहक को एटीएम में डेबिट कार्ड डालने की जरूरत नहीं होगी. इसके लिए ग्राहक को एटीएम पर क्यूआर कोड स्कैन करना होगा. उसके बाद 6 अंकों का UPI डालने पर पैसे निकल जाएंगे.

See also  RBI डिजिटल करेंसी : कैसे बदलेगा आरबीआई का 'डिजिटल रुपया' देश में डिजिटल करेंसी का चेहरा, यहां पाएं पूरी जानकारी

क्या है आरबीआई का उद्देश्य

कैशलेस कैश विदड्रॉल सिस्टम को लागू करने के पीछे आरबीआई का मकसद बढ़ती धोखाधड़ी की घटनाओं को कम करना है. इससे कार्ड क्लोनिंग, कार्ड स्किमिंग और अन्य बैंक धोखाधड़ी में कमी आने की उम्मीद है. साथ ही पैसे निकालने के लिए आपको कार्ड की जरूरत नहीं पड़ेगी.