Omicron latest update: अब Omicron के सब-वेरिएंट ने बढ़ाई टेंशन, टेस्ट में भी मात; जानिए क्या हैं लक्षण?

Omicron latest update: Corona : कोरोना के ओमाइक्रोन वेरियंट से अभी भी लड़ाई जारी है कि ओमाइक्रोन का सब वेरियंट भी सामने आ गया है। सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि Stealth Omicron नाम का यह सब-वेरिएंट RT-PCR टेस्ट भी नहीं कर पा रहा है।

Corona: कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन का एक सब-वेरिएंट भी सामने आया है, जिसे स्टील्थ ओमाइक्रोन (BA.2) नाम दिया गया है। डेनमार्क, यूके, स्वीडन और सिंगापुर के बाद अब ये सभी वेरिएंट भारत में भी आ गए हैं। BA.2 स्ट्रेन ओमाइक्रोन के मूल संस्करण की तुलना में कई गुना तेजी से फैलता है। यही वजह है कि लोगों के साथ-साथ सरकार की भी चिंता बढ़ गई है।

इससे वैज्ञानिक चिंतित हैं

ओमाइक्रोन को अब तक डेल्टा वेरिएंट की तुलना में कई गुना अधिक संक्रामक माना जाता था। हालांकि इसके लक्षण डेल्टा की तुलना में कम गंभीर हैं, लेकिन इसका उप-संस्करण स्टील्थ ओमाइक्रोन चिंता का कारण बन गया है। बताया जा रहा है कि स्टेल्थ ओमाइक्रोन आरटी-पीसीआर टेस्ट भी नहीं पकड़ पा रहा है। यही वजह है कि इस सब-वेरिएंट को लेकर वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है। आपको बता दें कि इससे पहले सभी वेरिएंट आरटी-पीसीआर टेस्ट की चपेट में आसानी से आ जाते थे।

See also  JioBook Laptop : फैंस में मची खलबली! Jio लॉन्च करने जा रहा अपना Laptop, जानिए हर डिटेल

स्टेल्थ ओमाइक्रोन की विशेषताएं क्या हैं?

वहीं, WHO का कहना है कि अभी तक Omicron के BA.1 वंश का दबदबा रहा है, लेकिन भारत, दक्षिण अफ्रीका, यूके और डेनमार्क के हालिया आंकड़े बताते हैं कि BA.2 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस सब-वेरिएंट के लक्षणों की बात करें तो एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोरोना के हर वैरिएंट के लक्षण पहले से अलग हैं. ओमाइक्रोन के लक्षण डेल्टा से भिन्न होते हैं। ओमाइक्रोन के अधिकांश रोगियों में नाक बहने या गले में चुभन की शिकायत होती है। इन रोगियों को स्वाद या सुगंध में कोई कमी महसूस नहीं होती, जैसा कि डेल्टा के मामले में हुआ था। ओमाइक्रोन सब-वेरिएंट ने अब तक कोई विशिष्ट लक्षण नहीं दिखाया है। गले में खराश के बाद भी आरटी-पीसीआर टेस्ट में लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है। हालांकि इसमें भी नाक बहना, सिरदर्द, थकान, छींक आना और गले में खराश जैसे लक्षण देखे जा रहे हैं।

See also  New Business Idea: नौकरी छूट गई है तो घबराने की जरूरत नहीं, छोटे निवेश से मिलेगी बड़ी कमाई

यह सब-वेरिएंट कितना खतरनाक है?

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि बीए.2 बीए.1 से ज्यादा खतरनाक है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए और शोध की जरूरत है। हालांकि, विशेषज्ञों के अनुसार, यहां तक ​​कि बीए.2 रोगियों को भी अस्पताल में भर्ती होने का खतरा है। Omicron के ओरिजिनल वैरिएंट का असर अभी तक फेफड़ों पर नहीं देखा गया था, लेकिन भारत में पाए गए मामलों के अनुसार BA.2 स्ट्रेन मरीज के फेफड़ों को सबसे ज्यादा प्रभावित कर रहा है। इससे संक्रमित नए मरीजों के फेफड़ों में भी 5 फीसदी से 40 फीसदी तक संक्रमण देखा गया है.

Leave a Reply