बुढ़ापा पेंशन: उम्र 60 होते ही घर पहुचेंगे कर्मचारी और बन जाएगी पेंशन, जानिए पूरी योजना

बुढ़ापा पेंशन के लिए जिला समाज कल्याण अधिकारी से लेकर सरकारी अस्पतालों तक के चक्कर लगाने वाले पात्र लोगों के लिए पेंशन बनवाने की राह एकदम आसान हो जाएगी. विभाग के कर्मचारी उनके घर जाकर पूछेंगे कि उन्हें पेंशन चाहिए या नहीं. पहले ऐसे 79 लोगों की सूची मिली थी, लेकिन अब 216 लोगों की लिस्ट आ चुकी है.

यह सब संभव हुआ PPP यानी परिवार पहचान पत्र समाज कल्याण विभाग के कार्यालय में जाने के बाद उन्हें यह साबित करना पड़ता था कि वह 60 की उम्र पार कर चुके हैं. उनकी वार्षिक आय 1.3 लाख रुपए या इसमें कम है. विभाग पेंशन के लिए अप्लाई करने वाले लोगों की उम्र वेरीफाई करने के लिए उन्हें सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों के पास भेज देते थे. जिससे कि वह उनकी आयु का सही आंकलन कर सके. शारीरिक रूप से स्वस्थ लोग 60 की उम्र पार करने के बावजूद भी कम उम्र के नजर आने के कारण पेंशन से वंचित रह जाते थे.

See also  बुजुर्ग पेंशन योजना में हुई वृद्धि, देखिए कितनी मिलेगी बुढ़ापा पेंशन

इसके विपरीत अस्वस्थ और कमजोर नजर आने वाले लोग पेंशन के पात्र बन जाते थे. इसके बाद भी पेंशन नहीं बनने की सूरत में उन्हें उच्च अधिकारियों की शरण लेनी पड़ती थी, यहा पर भी अपात्र लोग सिफारिश के आधार पर पेंशन के भागीदारी बन जाते थे. जब के पात्र लोग धक्के खाने को मजबूर बने रहते थे.

पीपीपी की वजह से आसान हुआ पेंशन पाना

सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन को पीपीपी से जोड़कर पेंशन के पात्र लोगों को बड़ी राहत देने का काम किया है. 7 अप्रैल को सीएम मनोहर लाल ने जब योजना का शुभारंभ किया तो समाज कल्याण विभाग के मुख्यालय की ओर से जिले के 79 लोगों की सूची भेजी गई थी. इस सूची के आधार पर पेंशन की शर्तों को पूरा करने वाले लोगों के पास विभाग के कर्मचारी पहुंच रहे है और पूछ रहे हैं कि उन्हें पेंशन चाहिए या नहीं. जबकि कई अन्य कारणों से जो लोग पेंशन के योग्य नहीं होते थे इनको कर्मचारी पेंशन का हकदार बनाते हैं. विभाग की ओर से उनकी पेंशन तत्काल शुरू कर दी जाती है.

See also  बुजुर्ग पेंशन योजना में हुई वृद्धि, देखिए कितनी मिलेगी बुढ़ापा पेंशन

उम्र पूरी होते ही भेजी जाती है सूची

पीपीपी में दर्ज आंकड़ों के सर्वेक्षण का कार्य प्रिड संस्था करती है. उम्र और आय जैसी पहलुओं की जानकारी पुख्ता पाए जाने के बाद प्रिड की ओर से समाज कल्याण विभाग के मुख्यालय को पेंशन के पात्र लोगों की सूची भेज दी जाती है. इसके बाद मुख्यालय इस सूची को जिलावर बनाते हुए जिला मुख्यालय पर भेज देता है.

पात्र लोगों की पेंशन तुरंत शुरू

कर्मचारियों मुख्यालय की ओर से मिलने वाली सूची में शामिल लोगों के घर जाकर पूछताछ करते हैं जिन्हें पेंशन की उम्र होने के बाद कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ते थे. पात्र लोगों की पेंशन इसके बाद तुरंत शुरू हो जाती है.