Milk Price Hike : महंगाई को एक और झटका! फिर बढ़ेंगे दूध के दाम, अमूल के एमडी ने बताई वजह

Milk Price Hike : अमूल के एमडी आरएस सोढ़ी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि यहां से दूध के दाम नीचे नहीं जा सकते बल्कि ऊपर जाएंगे. ऊर्जा, लॉजिस्टिक्स और पैकेजिंग लागत में वृद्धि के कारण अमूल दूध की कीमतें बढ़ सकती हैं।

Milk Price Hike

Milk Price Hike : आम जनता को एक बार फिर बड़ा झटका लग सकता है. दरअसल, अमूल दूध की कीमत में एक बार फिर से इजाफा होने की संभावना है। अमूल कंपनी के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि ऊर्जा, लॉजिस्टिक्स और पैकेजिंग लागत में वृद्धि के कारण अमूल दूध की कीमतें एक बार फिर बढ़ सकती हैं। हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि इस बार रेट में कितनी बढ़ोतरी होगी। आपको बता दें कि इससे पहले 1 मार्च 2022 को अमूल ने दूध के दाम में 2 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी.

See also  Property Tips : घर खरीदने से पहले चेक कर लें ये 5 दस्तावेज, नहीं होंगे ठगी के शिकार

दूध के दाम फिर बढ़ेंगे ( Milk Price Hike )

अमूल के एमडी आरएस सोढ़ी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि यहां से कीमतें नीचे नहीं जा सकतीं बल्कि ऊपर जाएंगी. सोढ़ी ने कहा कि सहकारी संघ ने पिछले दो वर्षों में अमूल दूध की कीमतों में 8 प्रतिशत की वृद्धि की है। इसमें पिछले महीने दूध की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी भी शामिल है। सोढ़ी की बातों से साफ है कि आने वाले समय में अमूल दूध के दाम बढ़ सकते हैं.

किसानों के लिए लाभ

सोढ़ी ने आगे कहा कि उनके उद्योग में मुद्रास्फीति चिंता का कारण नहीं है क्योंकि इससे किसानों को उपज के लिए उच्च कीमतों से फायदा हो रहा है। सोढ़ी ने कहा, “अमूल और डेयरी क्षेत्र द्वारा की गई वृद्धि दूसरों की तुलना में या इनपुट लागत में वृद्धि की तुलना में बहुत सीमित है। दूसरी ओर, ऊर्जा की कीमतों में एक तिहाई से अधिक की वृद्धि हुई है, जो कोल्ड स्टोरेज की लागत को प्रभावित करती है। इसी तरह लॉजिस्टिक्स कॉस्ट भी बढ़ी है और पैकेजिंग का भी यही हाल है। इन्हीं दबावों के चलते मार्च में दूध के दाम 1 से 2 रुपये तक बढ़ गए हैं.

See also  पंजाब: 'बादल परिवार ने 19 साल राज किया, कांग्रेस ने 25 साल राज किया', केजरीवाल ने पेश किया अपना प्लान

मुनाफावसूली सहकारिता का मुख्य उद्देश्य नहीं है

सोढ़ी ने कहा कि महामारी के दौरान दूध से किसानों की आय में 4 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है. वहीं, कई समस्याओं के चलते कंपनी के मुनाफे में कमी आई है। लेकिन अमूल इस तरह के दबावों से बेफिक्र है क्योंकि मुनाफावसूली सहकारिता का मुख्य उद्देश्य नहीं है। अमूल की कमाई में से 85 पैसे किसानों के पास जाते हैं। यानी किसानों को अमूल के मुनाफे में सबसे ज्यादा महत्व दिया गया है।