Lata Mangeshkar News in Hindi: स्वरा कोकिला लता मंगेशकर 92 का निधन, लंबे समय से थीं बीमार

Lata Mangeshkar News in Hindi: स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहीं मशहूर गायिका लता मंगेशकर का रविवार सुबह 92 साल की उम्र में निधन हो गया। यह जानकारी उनकी बहन उषा मंगेशकर ने दी। वह पिछले एक महीने से मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती थीं। जानकारी के मुताबिक उन्होंने सुबह 8.12 बजे अंतिम सांस ली। 8 जनवरी को वह कोरोना संक्रमित हो गई।

Lata Mangeshkar News in Hindi

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने लता मंगेशकर के निधन पर शोक जताया है. नितिन गडकरी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘देश का गौरव और संगीत जगत की मुखिया भारत रत्न लता मंगेशकर बहुत दुखी हैं। पवित्र आत्मा को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। उनका जाना देश के लिए अपूरणीय क्षति है। वह हमेशा सभी संगीत चाहने वालों के लिए एक प्रेरणा थीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं अपना दुख शब्दों में बयां नहीं कर सकता। दयालु और स्नेही लता दीदी हमें छोड़कर चली गई हैं। उन्होंने हमारे देश में एक खालीपन छोड़ा है जिसे भरा नहीं जा सकता। आने वाली पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति के एक ऐसे दिग्गज के रूप में याद करेंगी, जिनकी सुरीली आवाज में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की अद्वितीय क्षमता थी।

See also  Lata Mangeshkar News: लता मंगेशकर ने सोनू निगम से कही थी ये बात, सुनकर इमोशनल हो गए थे सिंगर

एंबेसडर कार की आज है इतनी कीमत

कला जगत के लिए अपूरणीय छवि : नड्डा

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने एक ट्वीट में लिखा कि भारत रत्न लता मंगेशकर का निधन, हर संगीत प्रेमी के दिल में बसने वाली स्वर कोकिला, हृदय विदारक है। यह संपूर्ण कला जगत के लिए एक अपूरणीय छाया है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को उनके चरणों में स्थान दें। लता दीदी के परिवार के सदस्यों और दुनिया भर में फैले करोड़ों प्रशंसकों के प्रति संवेदना।

Lata Mangeshkar News in Hindi

कई पुरस्कार और सम्मान जीते

लता मंगेशकर, जिन्होंने लगभग 78 वर्षों के अपने करियर में लगभग 25,000 गीतों को अपनी आवाज दी, को कई पुरस्कारों और प्रशंसाओं से सम्मानित किया गया। उन्हें तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। अपनी सुरीली आवाज से लोगों को मंत्रमुग्ध करने वाली लता मंगेशकर को प्रतिष्ठित भारत रत्न और दादा साहब फाल्के पुरस्कार से भी नवाजा गया था.

जानिए काला पानी की सजा का पूरा सच

इस वजह से हुई थी लता मंगेशकर की मौत

ब्रीच कैंडी अस्पताल में इलाज करा रही डॉ प्रतिमा समदानी ने लता मंगेशकर की मौत के कारणों की जानकारी दी. उन्होंने एक बयान में कहा कि मंगेशकर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था, जिससे उनकी मौत हो गई. उन्हें जनवरी में निमोनिया और कोरोनावायरस से पीड़ित होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

See also  Lata Mangeshkar News: लता मंगेशकर ने सोनू निगम से कही थी ये बात, सुनकर इमोशनल हो गए थे सिंगर

लता मंगेशकर हमेशा जीवित रहेंगी

लता मंगेशकर के निधन पर तमाम राजनीतिक और बॉलीवुड इंडस्ट्री के लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी है. शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट कर लिखा कि लता मंगेशकर हमेशा अमर रहेंगी। वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि आज मैं मुंबई आया और दुखद समाचार सुना। संगीत की दुनिया में उनके योगदान को कोई नहीं भूल सकता।

Lata Mangeshkar News in Hindi

बॉलीवुड इंडस्ट्री ने जताया दुख (Lata Mangeshkar News in Hindi)

लता मंगेशकर के निधन की खबर से बॉलीवुड इंडस्ट्री में शोक की लहर है। कई संगीतकारों ने उनके निधन को एक बड़ी क्षति बताया है। इससे पहले शनिवार को लता की बहन आशा भोंसले को अस्पताल पहुंचकर उनका हाल जाना था. आशा जब अस्पताल से बाहर आईं तो उनके चेहरे पर मायूसी झलक रही थी कि लता मंगेशकर की हालत ठीक नहीं है. उसके बाद रविवार यानी आज लता मंगेशकर के निधन की पुष्टि हुई.

लता ने ‘ऐ मेरे वतन के लोग…’ गाने से किया था इनकार

लता मंगेशकर द्वारा गाए गए सबसे लोकप्रिय गीतों में से एक है ‘ऐ मेरे वतन के लोग…’। इससे पहले लता ने कवि प्रदीप के लिखे इस गाने को गाने से मना कर दिया था, क्योंकि उन्हें रिहर्सल के लिए समय नहीं मिल पा रहा था। कवि प्रदीप ने किसी तरह उन्हें इसे गाने के लिए मना लिया। इस गाने का पहला प्रदर्शन 1963 में दिल्ली में गणतंत्र दिवस समारोह में हुआ था।

See also  Lata Mangeshkar : म्यूजिक के बाद कारों से भी लता मंगेशकर को था बहुत लगाव, गैराज में खड़ी हैं ये कारें

NEET and JEE Exam Date 2022

लता इसे अपनी बहन आशा भोंसले के साथ गाना चाहती थीं। दोनों ने साथ में इसकी रिहर्सल भी की थी। लेकिन इसे गाने के लिए दिल्ली जाने से एक दिन पहले आशा ने जाने से मना कर दिया. तब लता मंगेशकर ने अकेले ही इस गाने को आवाज दी और यह अमर हो गया।

अटल जी की यह बात सुनकर लता हैरान रह गईं

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और लता मंगेशकर के मन में एक-दूसरे का बहुत सम्मान था। लता उन्हें दद्दा कहकर बुलाती थीं। दोनों से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा है। लता मंगेशकर ने अपने पिता के नाम पर बने दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल के उद्घाटन समारोह में भी अटल को आमंत्रित किया था। जब उन्होंने समारोह के अंत में अपना भाषण दिया, तो उन्होंने कहा- ‘आपका अस्पताल अच्छा है, मैं आपको यह नहीं बता सकता। ऐसा कहने का मतलब है कि लोगों को बहुत बीमार पड़ना चाहिए।’ यह सुनकर लता चौंक गई और कुछ कह नहीं पाई।

Google मेरा नाम क्या है? 

Leave a Reply