Discount On Liquor in Delhi : दिल्ली में शराब की कीमत पर कितनी मिल रही छूट जानिए

दिल्ली सरकार के आबकारी विभाग की तरफ से सूचना मिली है कि नाक की कीमतों में गिरावट का दौर फिर से शुरू हो जाएगा। आपकारी विभाग ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा की निजी दुकानों में शराब की कीमतों पर 25 प्रतिशत छूट दी जाएगी।
जैसे यह आदेश जारी किया गया तभी से दिल्ली में की दुकानों पर डिस्काउंट का सिलसिला शुरू हो गया है। आबकारी विभाग ने दुकानों को 25 प्रतिशत तक की छूट देने की अनुमति दी है। दरअसल सरकार ने फरवरी महीने में कोबिट गाइडलाइन को मद्देनजर रखते हुए अस्वास्थ्यकर बाजार प्रथाओं के उल्लंघन के मद्देनजर शराब की दुकानों द्वारा दी जा रही छूट और योजनाओं पर रोक लगा दी थी।

See also  Edible oil Rates 2022: सरसों तेल के दाम में बड़ी गिरावट! सोयाबीन और बिनौला तेल भी होगा सस्ता, यहां देखें रेट

 

शर्तों का उललघंन करने वालों पर होगी कार्रवाई

लाइसेंसधारी विक्रेता लाइसेंस के नियमों और शर्तों का सख्ती से पालन करेंगे और यदि कोई उल्लंघन पाया जाता है तो उनके खिलाफ दिल्ली आबकारी अधिनियम और अन्य नियमों के तहत सख्त दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। हालांकि, इस आदेश में यह भी कहा गया है कि समग्र जनहित में, सरकार किसी भी समय छूट वापस लेने का अधिकार सुरक्षित रखती है।
आदेश में कहा गया है कि COVID-19 से संबंधित दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) के दिशानिर्देशों के उल्लंघन और कुछ लाइसेंसधारियों द्वारा दी गई अनियमित छूट के कारण बाजार की विकृति के मद्देनजर आबकारी विभाग ने 28 फरवरी को दिल्ली में शराब की बिक्री पर छूट और रियायतें बंद कर दी थीं।

See also  CUCET 2022-23 : केंद्रीय विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की यूजी सीटों पर 12वीं के अंकों के आधार पर नहीं मिलेगा प्रवेश

पहले फैसला वापिस लेने की क्या वजह थी

शराब की दुकानों पर विभिन्न ब्रांडों की शराब की कीमतों में 40 प्रतिशत तक की कमी के परिणामस्वरूप काफी लोगों ने मार्च में चालू वित्तीय वर्ष की समाप्ति के बाद योजनाओं को वापस लेने के डर से बड़ी मात्रा में शराब की खरीद और जमाखोरी शुरू कर दी थी।शराब की दुकानों पर छूट देने और ‘एक खरीदो, एक मुफ्त पाओ’ जैसे प्रस्तावों के साथ, फरवरी महीने में राजधानी के कई हिस्सों में शराब की दुकानों पर भारी भीड़ देखी गई थी। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बुलाए जाने के साथ कुछ कानून-व्यवस्था के मुद्दे भी सामने आए थे।इसके बाद आबकारी विभाग ने कानून-व्यवस्था की समस्या और स्थानीय लोगों को होने वाली असुविधा का हवाला देते हुए लाइसेंसधारियों द्वारा दी जा रही छूट और योजनाओं को वापस ले लिया था।