India operating system : भारत सरकार बना रही है नया ऑपरेटिंग सिस्टम! Android और iOS का होगा मुकाबला, जानिए

India operating system : हाल ही में, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राज्य मंत्री, श्री राजीव चंद्रशेखर ने एक साक्षात्कार में कहा है कि सरकार एक भारतीय ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने की योजना बना रही है जो आईओएस और एंड्रॉइड के साथ प्रतिस्पर्धा कर सके। है।

India operating system

नई दिल्ली। हर कोई स्मार्टफोन का इस्तेमाल करता है और स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम, एंड्रॉइड और आईओएस पर काम करता है। भारत सरकार अब एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने की योजना बना रही है जो पूरी तरह से मेड इन इंडिया होगा। ऐसा करने से सरकार Android और iOS को कड़ी टक्कर देगी। कहा जा रहा है कि इसके लिए सरकार भारत के एजुकेशनल और स्टार्टअप इकोसिस्टम की मदद ले सकती है।

See also  SBI ग्राहकों के लिए खुशखबरी! अब FD पर मिलेगा ज्यादा ब्याज, 3 साल से ऊपर की FD पर 0.90 फीसदी ज्यादा मुनाफा

भारत सरकार बना रही है ऑपरेटिंग सिस्टम

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के राज्य मंत्री श्री राजीव चंद्रशेखर ने हाल ही में एक साक्षात्कार में इस नए ऑपरेटिंग सिस्टम का खुलासा किया है। मंत्री का कहना है कि सरकार एक ऐसी योजना बनाने की कोशिश कर रही है जिससे एक ऐसा इकोसिस्टम विकसित करने का मौका मिले जिसमें उद्योग भारतीय ऑपरेटिंग सिस्टम बना सकें।

एंड्रॉइड और आईओएस क्लैश

जब मंत्री से पूछा गया कि क्या यह ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्राइड और आईओएस को टक्कर देगा तो उन्होंने कहा कि भारत के ऑपरेटिंग सिस्टम में क्षमता होने पर इसे तीसरे विकल्प के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। मंत्री ने ब्लैकबेरी सुर सिम्बियन का उदाहरण देते हुए कहा कि अगर हम ऐसा कर सकते हैं तो हम अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम भी तैयार कर बाजार में उतार सकते हैं।

See also  New PM Mudra Loan Yojana : बिजनेस करना हुआ आसान! पीएम मुद्रा योजना में 10 लाख रुपये समेत मिल रहे कई फायदे

सरकार का लक्ष्य

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पूरी तरह से भारत में इस नए ऑपरेटिंग सिस्टम के निर्माण के पीछे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) के लिए एक बड़ा लक्ष्य है. राजीव चंद्रशेखर जी के अनुसार, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी हर अग्रणी उत्पाद श्रेणी में घरेलू चैंपियन बनाना चाहते हैं।

साथ ही आपको बता दें कि हार्डवेयर की तरफ सरकार चाहती है कि भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग साल 2026 तक 22.5 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाए, जबकि फिलहाल यह पांच लाख करोड़ रुपए है।

Leave a Reply