India Gate: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा, पीएम मोदी ने किया ऐलान

Subhas Chandra Bose’s Statue On India Gate: पीएम मोदी ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है. पीएम मोदी ने कहा कि ये नेताजी सुभाष चंद्र बोस के प्रति भारत के ऋणी होने का प्रतीक होगा.

नई दिल्ली: देश की राजधानी में इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा लगाई जाएगी. इसका ऐलान पीएम नरेंद्र मोदी ने किया है. इंडिया गेट पर ग्रेनाइट से बनी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट

PM Modi ने ट्वीट किया, “ऐसे समय में जब पूरा देश नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती मना रहा है, मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इंडिया गेट पर उनकी भव्य ग्रेनाइट प्रतिमा स्थापित की जाएगी। यह उनके प्रति भारत के ऋणी होने का प्रतीक होगा।

See also  Work From Home : लैपटॉप पर काम करते-करते थक गई आंखें? इन आसान तरीकों से ताज़ा करें

पहले लगाएंगे नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा

पीएम मोदी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘जब तक नेताजी बोस की विशाल प्रतिमा तैयार नहीं होगी, उस स्थान पर होलोग्राम की प्रतिमा लगाई जाएगी। मैं नेताजी की जयंती 23 जनवरी को होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करूंगा।

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की मशाल में विलीन होगी अमर जवान ज्योति

बता दें कि इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से जल रही अमर जवान ज्योति का आज (शुक्रवार) राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलती हुई ज्योति में समाहित हो जाएगा. इसका मतलब है कि इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति की हमेशा जलती मशाल 50 साल बाद हमेशा के लिए राष्ट्रीय युद्ध स्मारक मशाल में विलीन हो जाएगी।

See also  यूपी चुनाव: 'अखिलेश ने मुझे अपमानित किया', चंद्रशेखर आजाद ने सपा सुप्रीमो पर लगाया गंभीर आरोप

अमर जवान ज्योति की स्थापना 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की याद में की गई थी। इस युद्ध में भारत की जीत हुई और बांग्लादेश का गठन हुआ। इसका उद्घाटन 26 जनवरी 1972 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।

सेना के अधिकारियों ने कहा कि अमर जवान ज्योति का शुक्रवार दोपहर राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में जलती हुई लौ के साथ विलय किया जाएगा, जो इंडिया गेट से केवल 400 मीटर की दूरी पर स्थित है।

बता दें कि 25 फरवरी 2019 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया, जहां 25,942 सैनिकों के नाम सुनहरे अक्षरों में लिखे गए हैं।

Leave a Reply