हाईकोर्ट का बड़ा फैसला: हरियाणा के 4858 क्लर्कों की भर्ती का परीक्षा परिणाम रद्द

हाईकोर्ट का बड़ा फैसला | दरअसल, करनाल के अनिल कुमार व अन्य ने एडवोकेट रविंदर ढुल के जरिए हाईकोर्ट में याचिका दायर कर बताया था कि 2019 में 4858 क्लर्कों की भर्ती के लिए आवेदन मांगे गए थे, जिसके बाद लिखित परीक्षा ली गई और सितंबर 2020 में इसका परिणाम जारी कर दिया गया था।

हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमीशन(एचएसएससी) द्वारा सितंबर 2020 में 4858 क्लर्कों की भर्ती का जो परिणाम जारी किया गया था उसके खिलाफ हाईकोर्ट में दायर कई याचिकाओं को स्वीकार करते हुए हाईकोर्ट ने इस परीक्षा के परिणाम को रद्द करते हुए आयोग को तीन महीनों में नए सिरे से संशोधित परिणाम जारी करने के आदेश दे दिए हैं। यह फैसला जस्टिस अरुण मोंगा ने सोमवार को किया।

See also  IPL 2022:रसेल के डांस पर हुए किंग खान फिदा

यह था मामला

याचिकाकर्ताओं के अनुसार लिखित परीक्षा के प्रश्न पत्र के दो सेट थे और आयोग ने नकल को रोकने के लिए दोनों सेट में उत्तरों के क्रम में बदलाव किया था। सेट सी में प्रश्न संख्या 3, 47 और 66 में वही प्रश्न थे जो सेट ए में 24, 62 और 9 के थे। प्रत्येक प्रश्न के चार विकल्प ए, बी, सी और डी था। इन दोनों सेटों में उत्तर के विकल्प क्रम को बदल दिया गया था। यानी सेट सी में अगर प्रश्न का उत्तर सी था तो सेट ए में इसे डी कर दिया गया।