Health Tips : ये हो सकते हैं दिल की नसों के कमजोर होने के कारण, जानिए इसके लक्षण और समस्याएं

Health Tips : दिल की नसों के कमजोर होने से आपको हो सकती है हार्ट अटैक जैसी गंभीर समस्या, जानिए दिल की नसों के कमजोर होने के कारण और लक्षण।

health tips

हार्ट अटैक, हार्ट फेल्योर जैसी समस्याएं अब युवाओं में भी काफी देखने को मिल रही हैं। हृदय रोगियों की बढ़ती संख्या के पीछे सबसे बड़ा कारण आज के समय की बदलती जीवनशैली और खान-पान को माना जा रहा है।

एक आंकड़े के मुताबिक भारत में हृदय रोग के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। दिल से जुड़ी समस्याओं में आपको शुरू से ही कई लक्षण नजर आने लगते हैं। हृदय में कई रक्त वाहिकाएं और धमनियां मौजूद होती हैं, जिनका काम शरीर के अंगों को रक्त की आपूर्ति करना होता है।

यदि हृदय की नसों में कोई समस्या है तो आपको गंभीर समस्या हो सकती है। इस वजह से आपको हार्ट ब्लॉकेज की समस्या भी हो सकती है। कई बार दिल की आंतरिक स्वास्थ्य की स्थिति और जीवनशैली और खान-पान संबंधी कारणों से लोगों के दिल की नसें कमजोर हो जाती हैं,

See also  TMKOC : 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में वापसी करेंगी दयाबेन? कई बातों में खुद जेठालाल ने बताया सच

जिससे आपको कई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं दिल की नसें कमजोर क्यों होती हैं और इससे क्या समस्याएं हो सकती हैं?

कमजोर दिल की नसें कारण

दिल की नसों में समस्या होने से भी दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। इस वजह से हार्ट अटैक के अलावा और भी कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। बाबू ईश्वर शरण अस्पताल के सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. आरके यादव के मुताबिक दिल की नसों में कमजोरी कई कारणों से हो सकती है। इसके लिए आपका खान-पान और रहन-सहन भी जिम्मेदार माना जाता है। हृदय की नसों के कमजोर होने के पीछे ये प्रमुख कारण माने जाते हैं।

1. हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन की समस्या की वजह से आपके दिल की नसें कमजोर हो सकती हैं। हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हार्ट अटैक की समस्या भी सबसे ज्यादा होती है।

2. मोटापे की समस्या की वजह से भी दिल की बीमारियों का खतरा बना रहता है। मोटापे की वजह से आपको हार्ट अटैक की संभावना भी ज्यादा रहती है। मोटापे से ग्रस्त लोगों के दिल की नसें कमजोर हो सकती हैं।

See also  Corona latest news india : कोरोना राहत खबर! पिछले दिन के मुकाबले 35 हजार कम केस, घटी संक्रमण दर

3. शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल की वजह से भी आपके दिल की नसें कमजोर हो जाती हैं और इसकी वजह से दिल की नसों में प्लाक जमा हो जाता है। यह समस्या कई बार गंभीर भी हो सकती है

4. दिल की बीमारियों का एक प्रमुख जोखिम कारक धूम्रपान है। धूम्रपान करने से हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ता है। धूम्रपान करने की वजह से आपके दिल की नसें भी कमजोर होती हैं, जो आगे चलकर कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है।

5. डिप्रेशन या अवसाद की वजह से शरीर में रिलीज होने वाले स्ट्रेस हॉर्मोन आपकी नसों को गंभीर नुकसान पहुंचाते हैं। इसकी वजह से नसें कमजोर होती हैं और दिल की बीमारी का जोखिम बढ़ता है।

6. हार्ट वाल्व से जुड़ी समस्या होने के कारण भी आपके दिल की नसें कमजोर हो जाती हैं और इसकी वजह से कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

See also  दिल्ली हरियाणा समेत पांच राज्यों में बढ़े कोरोणा के मामले, राज्यों को निगरानी बढ़ाने के आदेश

कमजोर दिल की नसों के लक्षण

दिल की नसों के कमजोर होने से आपको कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। नसों के कमजोर होने से आपको सबसे ज्यादा हार्ट अटैक, हार्ट फेल होने का खतरा रहता है। दिल की नसें कमजोर होने पर आपको ये लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

सांस लेने में परेशानी ( Health Tips )

पैर में तेज दर्द
पैरों में सूजन की समस्या
सीने में दर्द
दिल का दौरा
कंधे का दर्द
लगातार सर्दी और फ्लू

दिल की नसें कमजोर होने से होने वाली समस्याएं

दिल की नसों के कमजोर होने से आपको दिल की गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। इससे आपको दिल का दौरा पड़ सकता है और बाद में आपको कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। दिल की नसों के कमजोर होने से कोरोनरी आर्टरी डिजीज का खतरा बढ़ जाता है। हृदय की नसें कमजोर होने पर दिखाई देने वाले लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और समय-समय पर हृदय के स्वास्थ्य की जांच करते रहना चाहिए।