Haryana Winter Holidays 2023: जरूरी सूचना! हरियाणा में स्कूलों के सर्दी की छुट्टियां हुई रद्द, यहां जानें पूरी खबर

Haryana Winter Holidays 2023 | बढ़ती ठंड को देखते हुए हर वर्ष विद्यार्थियों को शीतकालीन अवकाश दिया जाता है. लेकिन हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी (HBSE) ने विद्यार्थियों के बोर्ड परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन के लिए कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं के विंटर वेकेशन रद्द कर दिए है. डिटेल में पूरी जानकारी जानने के लिए इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें.

विद्यार्थियों के शीतकालीन अवकाश रद्द:

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के तरफ से यह फैसला लिया गया है कि कक्षा दसवीं और बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों के शीतकालीन अवकाश को रद्द कर दिया गया है. इसलिए ताकि विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा में बेहतरीन प्रदर्शन करने में सफल रहे हो सकें.

विंटर वेकेशन कैंसिल और क्लासेस होंगी स्टार्ट:

शीतकालीन अवकाश 1 जनवरी से 15 जनवरी तक होते हैं लेकिन कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों की कक्षा सुबह 10:00 बजे से लेकर दोपहर 2:00 बजे तक लगेंगी. एन एक्स्ट्रा क्लासेस में विद्यार्थियों को मैथ, साइंस और इंग्लिश की पढ़ाई कराई जाएगी.

See also  हरियाणा में किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी 1 अप्रैल से होगी गेहूं की खरीद शुरू

See Also: इस दिन से शुरू होगी 10वीं 12वीं की बोर्ड परीक्षा, यहां देखें टाइम टेबल

डिपार्टमेंट ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के निदेशक डॉ अंशुल सिंह के मुताबिक 26 दिसंबर तक अपने इस योजना कोडियो के समक्ष पेश करने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों को परीक्षा के दिनों में तीन समूह में बैठकर परीक्षा के लिए तैयारी कराई जाएगी. इसमें से पहले समूह में मेरिट आने वाले छात्र-छात्राएं शामिल होंगे इसके बाद दूसरे समूह में 50% से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थी शामिल होंगे वहीं तीसरे समूह में 35% अंक वाले विद्यार्थियों को शामिल किया जाएगा.

See also  हरियाणा के स्कूलों में 1 जनवरी से छुटि्टयां, सर्दियों में 15 दिन बंद रहेंगे, पेरेंट्स को Whatsapp पर मिल रही सूचना

अभिभावकों को मिलेगी बच्चों की रिपोर्ट:

इस तैयारी के दौरान साप्ताहिक परिणामों को अध्यापक छात्रों के अभिभावकों के साथ साझा करेंगे. इसके लिए एक डायरी तैयार की जाएगी जिसमें बच्चे की दैनिक परफॉर्मेंस के बारे में बताया जाएगा और यह अंत में अभिभावकों के साथ साझा किया जाएगा. सरकार का इसके पीछे यह उद्देश्य है कि अबकी बार विद्यार्थियों के परिणाम में 20% की वृद्धि जरूर हो ताकि जो बचा 60% अंक हासिल करते हैं वह 20% की वृद्धि के साथ 80% अंक तक हासिल कर सकें.