इनवर्टर की बैटरी को लंबे समय तक इस्तेमाल करने के लिए अपनाएं यह टिप्स

इन्वर्टर बैटरी : अगर आप भारतीय नागरिक हैं तो आपने कभी ना कभी बिजली चले जाने के एहसास को अनुभव अवश्य किया होगा. भारत के छोटे से लेकर बड़े शहरों में इनवर्टर एक बड़ी भूमिका अदा करता है. जहां पर लाइट की समस्या उत्पन्न होती है. वहां तो इसकी महत्वता और अधिक बढ़ जाती है. हमें इनवर्टर के साथ-साथ इसकी बैटरी का भी विशेष ध्यान रखना होता है. या यह कहें कि इनवर्टर से अधिक हमें बैटरी का ही ध्यान रखना होगा. अगर बैटरी का अच्छे से ध्यान ना रखा जाए तो बैटरी खराब भी हो सकती है. इसलिए आज हम आपको बैटरी की देखभाल के लिए कुछ टिप्स बताएंगे. जो बैटरी को खराब ना होने में सहायता करेगी तो चलिए जानते हैं.

Inverter Battery News Today In Hindi

चार्जिंग का ध्यान रखें :

बैटरी को चार्ज करते समय उसे अधिक चार्ज ना करें इस बात का अवश्य ध्यान रखें. बैटरी चाहे मोबाइल की हो या फिर अन्य किसी भी उपकरण की उसका ध्यान रखना आवश्यक है. इनवर्टर की बैटरी में प्लेट्स होती हैं. जो अधिक चार्ज होने पर खराब भी हो सकती हैं. इसलिए बैटरी फुल चार्ज होने के बाद स्विच को ऑफ कर देना चाहिए और बैटरी कम चार्ज होने पर इसके खराब होने का भी डर लगा रहता है. इसलिए चार्जिंग को लेकर विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है.

टर्मिनल की सफाई करते रहना :

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि बैटरी के जिस हिस्से से करंट के लिए बिजली की तार को जोड़ा जाता है. उसे टर्मिनल कहा जाता है. कई बार इन पर जंग लग जाता है. जंग लगने से बैटरी में करंट का फ्लो धीमा हो जाता है. जिसके कारण बैटरी खराब होने का खतरा बना रहता है. इसलिए समय-समय पर टर्मिनल की सफाई करते रहना चाहिए.

Inverter Battery News Today In Hindi

बैटरी में वॉटर लेवल को चेक करें :

इनवर्टर की बैटरी को लंबे समय तक चलाने के लिए एवं बैटरी को खराब होने से भी बचाने के लिए बैटरी के वॉटर लेवल को चेक करते रहना चाहिए. बैटरी का वाटर लेवल ना तो अधिक ज्यादा होना चाहिए और न ही अधिक कम होना चाहिए. आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि बैटरी में डिस्टिल्ड वॉटर का इस्तेमाल किया जाता है. अन्य पानी डालने से बैटरी पर बुरा असर पड़ता है और यह खराब भी हो सकती है.

Leave a Reply