Fasal Muavja 2022: अगर फसल हो गई खराब तो इस पोर्टल पर करें आवेदन, तुरंत मिलेगा मुआवजा

Fasal Muavja 2022 | पिछले कुछ दिनों में हुई जबरदस्त बारिश से फसल जलमग्न हो गई है. प्रदेश सरकार ने फसल नुकसान जानने के लिए फसल क्षतिपूर्ति पोर्टल लांच कर दिया है. बता दें कि “मेरी फसल मेरा ब्योरा” पोर्टल पर किसान अपने मोबाइल नंबर और पहचान पत्र से लिंक कर सकता है. अगर किसी किसान की फसल खराब हुई है तो उसे 72 घंटों के अंदर फसल की जानकारी और फोटो पोर्टल पर अपलोड करनी होगी. फसल क्षतिपूर्ति पोर्टल पर आई रिपोर्ट को पटवारी अगले 1 सप्ताह में फील्ड में जाकर भौतिक जांच करेंगे तथा इसी दौरान एक रिपोर्ट भी बनाई जाएगी, जो सरकार को सौंपी जाएगी.

See also  Haryana Fasal Muavja 2022: (1 October 2022) किसानों को उपहार में दिए करोड़ों रुपये, देखें लिस्ट

Fasal Muavja 2022:

आपको बता दें कि फसल नुकसान के संबंध में वित्त आयुक्त तथा हरियाणा राज्य आपदा प्रबंधन मुख्य सचिव की ओर से सभी जिलों के डीसी को भी पत्थर जारी कर दिए गए हैं. ध्यान रहे कि क्षतिपूर्ति पोर्टल पर किसानों को अपनी जमीन का खसरा नंबर सहित फसल के बारे में संपूर्ण जानकारी देनी होगी. फसल बीमा है या नहीं तथा फसल कितने एकड़ में है और फसल कितने प्रतिशत खराब हो चुकी है. आपको जरूरी सोचना बता दें कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना तथा बीज विकास निगम प्रोग्राम में शामिल होने वाले किसानों को इसका फायदा नहीं मिलेगा.

See also  Haryana Fasal Muavja 2022: (1 October 2022) किसानों को उपहार में दिए करोड़ों रुपये, देखें लिस्ट

Read Also: OLA के इस इलेक्ट्रिक स्कूटर पर भारी डिस्काउंट, सीमित समय तक ऑफर! ऐसे उठाएं फायदा

सचिव द्वारा जारी मुख्य निर्देश (Fasal Muavja 2022):

मुख्य सचिव ने निर्देश दिए हैं कि क्षतिपूर्ति पोर्टल पर आने वाली सभी शिकायतों की पटवारियों व कानूनगो द्वारा फील्ड में जाकर भौतिक जांच की जाएगी. पोर्टल पर दी गई फसल की जानकारी व फोटो की भी जांच की जाएगी. अगले 1 सप्ताह में पटवारियों को अपनी रिपोर्ट सरकार को देनी होगी. जिसके बाद सरकार किसानों को फसल का मुआवजा (Fasal Muavja 2022) देगी.

ये फसलें हुई ज्यादा प्रभावित:

पिछले दिनों आई तेज में जबरदस्त बारिश में प्रभावित होने वाली मुख्य फसलें कपास, धान सहित सब्जी की फसलें ज्यादा खराब हुई है. झज्जर, रोहतक, सोनीपत, भिवानी, करनाल, कुरुक्षे,त्र कैथल व यमुनानगर जिलों में अभी भी लाखो एकड़ फसल जलमग्न है.