Google पर भूलकर भी इन चीजों को ना करें सर्च, वर्ना जाना पड़ेगा जेल

Google Search Alert 2022 | Google तो हम सभी ही इस्तेमाल करते हैं और उस पर बहुत टाइप की चीजें भी सर्च मारते हैं. गूगल हमें बहुत सी जानकारियां भी देता है तथा हमारे बहुत काम भी आता है. जैसे Train की टिकट रिजर्व करना तथा किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करनी हो तो हम गूगल पर सर्च मारते हैं. गूगल हमें कुछ भी बता सकता है. परंतु गूगल पर यह पांच चीजें सर्च मारना हो सकता है अपराध सरकार ने इन 5 चीजों को सर्च करने से हो सकती है जेल.

Whatsapp Group Join Now: Click Here

हम जो भी गूगल पर सर्च मारते हैं उस पर आंख बंद कर कर विश्वास कर लेते हैं कि यही सच है. हम गूगल पर बहुत सी चीजें सर्च मारते हैं. क्या आपको पता है गूगल पर क्या-क्या सर्च करने पर प्रतिबंध है? आईटी एक्ट के तहत गूगल (Google) ने भारत में कई चीजों को प्रतिबंधित कर दिया था. आइए जानते हैं डिटेल में-

इन चीजों को ना करें सर्च

छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार:

किसी भी दुर्व्यवहार या छेड़छाड़ पीड़ित व्यक्ति की फोटो या नाम सर्च मारना गूगल पर गैरकानूनी माना जाता है. क्योंकि यह उस व्यक्ति का पर्सनल मैटर है. वह अपनी बात को सोशल मीडिया पर शेयर करना चाहता है या नहीं वह उसका निर्णय है. यदि कोई और व्यक्ति ऐसा करता है तो उसके लिए यह गैरकानूनी माना जाता है. सुप्रीम कोर्ट की तरफ से किसी भी छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार पीड़िता के नाम और फोटो को उजागर करना गैरकानूनी करार दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कोई भी व्यक्ति इस विषय पर कोई भी फोटो या नाम पोस्ट नहीं कर सकता उसे गैर कानूनी माना जाएगा.

See also  MP Corona Death: तीसरी लहर को हल्के में लेने वालों को यह खबर जरूर पढ़नी चाहिए, मप्र में घातक हो गया कोरोना, जानें आंकड़े

चाइल्ड पोर्न के बारे में:

हमारे देश में चाइल्ड पोर्न के बारे में सर्च मार ने गैरकानूनी कर दिया है. जो भी व्यक्ति इसके बारे में सर्च मारेगा सरकार उसकी जानकारी लेकर उसे सीधा जेल में डाल सकती है. क्योंकि हमारे देश में बलात्कार के अपराध बढ़ते जा रहे हैं. इसीलिए चाइल्ड पॉर्न के बारे में search भूलकर भी ना करें.

फिल्म पाइरेसी:

रिलीज से पहले ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर किसी भी फिल्म को लीक करना या फिर पाइरेसी फिल्म को डाउनलोड करना अपराध है. पीएम मोदी सरकार में यूनियन कैबिनेट ने सिनेमेटोग्राफी एक्ट 1952 में संशोधन मंजूर कर लिया है. कैबिनेट के नए फैसलों में फिल्म पाइरेसी को अब एक गंभीर अपराध माना जाएगा. ऐसा करने पर कम से कम 3 साल की सजा और 10 लाख रुपये जुर्माना देना होगा. इस कानून के दायरे में वो लोग भी आएंगे, जो सिनेमाघरों में फिल्म की रिकॉर्डिंग करते हैं या ऐसी रिकॉर्डिंग का कारोबार करते हैं.

See also  Indian Railways: IRCTC ने फिर बदले टिकट बुकिंग के नियम, बचेगा यात्रियों का समय

Abortion के बारे में:

गूगल पर अबॉर्शन करने के तरीके भूलकर भी सर्च ना करें. बिना डॉक्टर की सलाह लिए abortion कराना गैरकानूनी है. कई मामले सामने आए हैं जिसमें सुप्रीम कोर्ट से गर्भपात कराने की मांग की है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से किसी बीमाीर से ग्रसित महिला को डॉक्टर की सलाह से गर्भपात की इजाजत दी है. ऐसे में ऑनलाइन सर्च करके गर्भपात की विधि ना ढ़ूढ़ें, नहीं तो जेल जाना पड़ेगा.

भारत सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ आंदोलन चलाया हुआ है. कई लोग बेटियों को मरने के लिए भी abortion कराते हैं तो इसीलिए बिना डॉक्टर की सलाह लिए ऐसा ना करें.

मोबाइल ऐप या सॉफ्टवेयर:

गूगल पर फेक वेबसाइट या एप सर्च करना गैरकानूनी है. क्योंकि कहीं वेबसाइट भारत सरकार ने बैन कर रखी है. यदि हम गूगल पर ऐसी किसी वेबसाइट को सर्च मारते हैं तो वह गैरकानूनी माना जाता है तथा भूल कर भी उसे डाउनलोड ना करें क्योंकि वह आपके डिवाइस को तो हार्म करता ही है. परंतु आपको जेल भी हो सकते हैं तो कृपया भूल कर भी ऐसी गलती ना करे.

Whatsapp Group Join Now: Click Here