दिल्ली मेट्रो Yellow, Blue और Red लाइन के यात्री ध्यान दें, यह होंगे बड़े बदलाव

दिल्ली मेट्रो | दिल्ली मेट्रो को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत एनसीआर क्षेत्र के लोगों के लिए जीवन रेखा कहा जाता है। ऑफिस या गंतव्य तक पहुंचने और समय पर अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए हर दिन लाखों लोग मेट्रो से यात्रा करते हैं। अब डीएमआरसी एक ही ट्रेन से ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाने-ले जाने की नई योजना तैयार कर रही है।

इसके तहत डीएमआरसी 6 कोच वाली मेट्रो ट्रेन को 8 कोच में बदलने की तैयारी कर रही है, ताकि अधिक से अधिक लोग एक साथ यात्रा का आनंद उठा सकें। ब्लू और येलो लाइन के बाद डीएमआरसी अब रेड लाइन यानी रिठाला से शहीद स्थल न्यू बस अड्डा रूट पर छह कोच वाली 39 ट्रेनों में 78 कोच जोड़ रहा है. यह काम इस साल के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है।

See also  Delhi Weekend Curfew : वीकेंड कर्फ्यू हटा, दुकानों के लिए लागू ऑड-ईवन भी खत्म; जानिए क्या खुला है और क्या बंद रहेगा

दिल्ली मेट्रो के पास है 336 ट्रेनें

मेट्रो का यह प्रोजेक्ट इसलिए भी अहम है क्योंकि इन तीनों कॉरिडोर से 40-50 फीसदी यात्री सफर करते हैं। परिवर्तन के बाद ब्लू लाइन पर आठ कोच वाली ट्रेनों की संख्या 74, येलो लाइन पर 64 और रेड लाइन पर 39 हो जाएगी। अब तक येलो लाइन पर 12 और ब्लू लाइन पर 9 ट्रेनों का रूपांतरण किया जा चुका है। डीएमआरसी के बेड़े में 336 ट्रेनें हैं और सबसे ज्यादा ब्लू लाइन पर 74 ट्रेनें चलाई जा रही हैं। इसके बाद येलो लाइन पर 64 और पिंक लाइन पर 51 ट्रेनें चलती हैं।

दिल्ली मेट्रो अपने तीन सबसे पुराने और व्यस्ततम कॉरिडोर – रेड लाइन, येलो लाइन (हुडा सिटी सेंटर से समयपुर बादली) और ब्लू लाइन (द्वारका से नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी/वैशाली) पर कोचों की कुल संख्या को 120 तक बढ़ाना चाहती है ताकि यात्रियों की आवाजाही बढ़ाई जा सके। क्षमता। बढ़ाया जा सकता है। इस रूपांतरण पर काम पिछले साल शुरू हुआ था।

See also  Maggi Price Hike : मैगी की कीमत भी बढ़ी, सबसे छोटा पैक अब इस कीमत में

डीएमआरसी के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि ट्रेन कंपनी ने शास्त्री पार्क डिपो में रेड लाइन पर छह कोच वाली 39 ट्रेनों में 78 और कोच जोड़ने का काम शुरू कर दिया है. इस लाइन पर पहली आठ कोच वाली ट्रेन इस साल जून तक तैयार होने की संभावना है और शेष 38 ट्रेनें 2022 के अंत तक तैयार हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि इस कदम से यात्रियों को ले जाने की क्षमता में काफी वृद्धि होगी। 39 किमी के इस कॉरिडोर पर कुल स्टेशनों की संख्या 29 है।

Leave a Reply