दिल्ली: बंद रहेंगे सारे निजी दफ्तर, थोड़ी देर में सीएम की प्रेस कॉन्फ्रेंस; क्या होगा लॉकडाउन?

दिल्ली में कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, इसके साथ ही ओमाइक्रोन से भी संक्रमण की दर बेकाबू होती जा रही है. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर 25% तक पहुंचने के साथ ही दिल्ली के लोगों की चिंता बढ़ गई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या सभी निजी कार्यालयों को बंद करने के आदेश के बाद लॉकडाउन लगाया जा सकता है।

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना के नए मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, इसके साथ ही ओमाइक्रोन से भी संक्रमण की दर बेकाबू होती जा रही है. राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर 25% तक पहुंचने के साथ ही दिल्ली के लोगों की चिंता बढ़ गई है।

दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने डीडीएमए के साथ बैठक की है. आज दोपहर 12 बजे सीएम अरविंद केजरीवाल मीडिया को ब्रीफ करने जा रहे हैं।

Table of Contents

दिल्ली में निजी दफ्तर पूरी तरह बंद रहेंगे

डीडीएमए की बैठकों और चेतावनियों के बाद यहां सख्ती बढ़ती जा रही है. इस बीच दिल्ली में सभी निजी दफ्तरों को बंद रखने के आदेश आ गए हैं. ऐसे कई कड़े फैसले हो सकते हैं।

दिल्ली का कोरोना बुलेटिन लगातार खतरनाक मोड़ ले रहा है, ऐसे में दिल्ली में एक बार फिर से लॉकडाउन की अटकलें लगाई जा रही हैं. हालांकि सीएम केजरीवाल समेत दिल्ली सरकार के नेता लगातार लॉकडाउन न लगाने की बात कह रहे हैं. लेकिन अगर संक्रमण दर इसी तरह बढ़ती है तो लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

क्या ये फैसले कोई संकेत दे रहे हैं?

रेस्टोरेंट और बार को बंद करने का फैसला किया गया है. लोग यहां बैठकर खा नहीं सकते। साप्ताहिक बाजारों को लेकर भी फैसला लिया गया है। अब एक जोन में एक सप्ताह में बारी-बारी से केवल एक साप्ताहिक बाजार लगाने की अनुमति दी गई है। बाजार में कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन होगा। जबकि पहले साप्ताहिक बाजारों पर कोई पाबंदी नहीं थी।

See also  वीकेंड कर्फ्यू खत्म, दुकानों से हटेगा ऑड-ईवन सिस्टम, सीएम केजरीवाल ने एलजी को भेजी सिफारिश

अब आगे क्या होगा?

सभी निजी कार्यालय पूरी तरह बंद हो सकते हैं। केवल आवश्यक सेवाओं वाले कार्यालय ही खुलेंगे। किसी भी हाल में वर्क फ्रॉम होम लागू किया जाएगा। ऐसे में सभी की निगाहें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस पर हैं. इसमें केजरीवाल नई पाबंदियों के बारे में भी कह सकते हैं। हालांकि इसका दायरा कम है। क्योंकि इससे पहले केजरीवाल खुद लॉकडाउन लगाने की बात को खारिज कर चुके हैं।

कई डॉक्टरों के संक्रमित होने की खबर

इस बीच देश के कई शहरों में अस्पतालों की ओपीडी पर एक बार फिर कोरोना का संकट मंडरा रहा है. दिल्ली और अंबाला समेत कई जगहों पर डायरेक्ट पब्लिक डीलिंग से डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं.

See also  दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, एक ही दिन में सामने आए 15 हजार से ज्यादा केस

दिल्ली के 6 बड़े अस्पतालों में कम से कम 750 डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिक्स कोरोना से संक्रमित हैं. हालांकि उनमें से ज्यादातर में हल्के लक्षण हैं, जिसके बाद सभी ने खुद को घर में ही आइसोलेट कर लिया है। एक साथ इतने मेडिकल स्टाफ के कोरोना संक्रमित होने से काम प्रभावित हुआ है। अस्पतालों को नियमित क्लीनिक और सर्जरी बंद करनी पड़ी है। एम्स सबसे ज्यादा प्रभावित है, जहां फिलहाल करीब 350 रेजिडेंट डॉक्टर आइसोलेशन में हैं।

दिल्ली का कोरोना बुलेटिन

कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. दिल्ली में सोमवार को कोरोना के 19 हजार 166 नए मामले सामने आए। 17 मरीजों की मौत भी हुई। संक्रमण दर बढ़कर 25 प्रतिशत हो गई है। दिल्ली में फिलहाल 65 हजार 806 एक्टिव केस हैं। इसलिए कोई नहीं जानता कि आज क्या होगा।

Leave a Reply