Corona New Guidelines: कोरोना पर काबू पाने में जुटी योगी सरकार, यूपी में जारी हुई नई गाइडलाइंस

Up Corona Virus New Guidelines | CM ने अन्य अस्पतालों को नॉन कोविड मरीजों के लिए उपलब्ध रहने के भी निर्देश दिए. उन्होंने अस्पतालों में OPD सेवाओं को कोविड प्रोटोकॉल का साथ संचालित रखने के भी निर्देश दिए.

लखनऊ: यूपी में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार लगातार बढ़ती जा रही है. यूपी में मंगलवार को 14 हजार से ज्यादा संक्रमित मरीज सामने आए। हालांकि इस दौरान ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 20 हजार से ज्यादा रही। इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोविड प्रबंधन का कार्य देख रही उच्च स्तरीय टीम 9 (टीम-9) की समीक्षा बैठक में अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में सीएम ने प्रत्येक जिले में कम से कम एक बड़ा अस्पताल कोविड को समर्पित किया. इसे अस्पताल के रूप में आरक्षित करने के निर्देश दिए गए हैं।

Up Corona Virus New Guidelines

यूपी में पिछले 24 घंटे में 02 लाख 30 हजार 753 कोरोना टेस्ट किए गए। इसके साथ ही राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 1 लाख 1 हजार 114 हो गई। राहत की बात यह भी रही कि इनमें से 99% लोग होम आइसोलेशन में हैं।

इस जानकारी के साथ हुई बैठक में सीएम योगी ने टीम 9 के अधिकारियों को भी महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश जारी किए. सीएम ने अन्य अस्पतालों को भी गैर-कोविड मरीजों के लिए उपलब्ध रहने के निर्देश दिए. उन्होंने अस्पतालों में ओपीडी सेवाएं कोविड प्रोटोकॉल के साथ चालू रखने के भी निर्देश दिए.

जिला प्रशासन पर रखें नजर

कोविड की नई लहर के बीच मुख्यमंत्री ने राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में पारंपरिक मेलों, स्नान उत्सवों के आयोजन के संबंध में भी अधिकारियों को निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि यूपी का कोविड प्रबंधन सभी के लिए एक उदाहरण है कि प्रयागराज में विशाल पारंपरिक माघ मेला सुचारू रूप से चल रहा है और कहीं से भी अत्यधिक संक्रमण या किसी अन्य विकार के फैलने की कोई सूचना नहीं है. उन्होंने दावा किया कि लाखों श्रद्धालु स्वास्थ्य संबंधी सावधानियों के साथ पूजा-अर्चना कर रहे हैं।

See also  1431 ओमाइक्रोन मामले, महाराष्ट्र में सबसे अधिक (454), जानिए क्यों बढ़ रहे है इतने मामले

टीम 9 का रिपोर्ट कार्ड और लिए गए फैसले

आक्रामक ट्रेसिंग और परीक्षण, तेजी से उपचार और तेजी से टीकाकरण कोविड के प्रसार को रोकने के सबसे महत्वपूर्ण साधन हैं। यह संतोषजनक है कि हमारा राज्य अन्य राज्यों की तुलना में परीक्षण और टीकाकरण में प्रथम स्थान पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में राज्य में अब तक 23 करोड़ 72 लाख से अधिक वैक्सीन की खुराक पिलाई जा चुकी है। जबकि 09 करोड़ 69 लाख से ज्यादा टेस्टिंग हो चुकी है। यह देश के किसी एक राज्य में किया गया सबसे अधिक परीक्षण-टीकाकरण है।

कोरोना के कारण बच्चों का नियमित टीकाकरण प्रभावित हुआ है। ऐसे नवजात बच्चों को चिन्हित कर फरवरी माह में विशेष अभियान चलाकर टीकाकरण करवाना चाहिए। बचपन के ये टीके हमें जीवन भर कई बीमारियों से सुरक्षित रखते हैं।

3 टी . पर जोर

कोरोना के प्रसार को नियंत्रित करने में ट्रेसिंग का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। हमने अपनी निगरानी समितियों के सहयोग से अंतिम दौर में घर-घर जाकर स्क्रीनिंग की है, जिससे कोविड नियंत्रण में मदद मिली है। इस बार भी इसी तरह के प्रयास की जरूरत है। इसलिए राज्यव्यापी निगरानी कार्यक्रम चलाया जाना चाहिए। इस कार्यक्रम में निगरानी समितियां/स्वास्थ्य कार्यकर्ता घर-घर पहुंचें। लक्षणों वाले लोगों की पहचान करें। आवश्यकतानुसार परीक्षण करवाएं। और हर संदिग्ध मरीज को मेडिकल किट उपलब्ध कराएं। अधूरे वैक्सीन कवर वाले लोगों की सूची बनाएं। इस विशेष अभियान के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को भी प्रशिक्षित किया जाए।

यह होगी टीकाकरण बढ़ाने की रणनीति

राज्य में 18 वर्ष से अधिक आयु के 95% से अधिक लोगों को वैक्सीन की पहली खुराक मिल चुकी है। 61 फीसदी से ज्यादा लोग कोविड वैक्सीन की दोनों खुराक ले चुके हैं। अंतिम दिन तक, 15-17 वर्ष के आयु वर्ग के लगभग 45℅ किशोरों को टीका कवर प्राप्त हुआ है और 40% से अधिक योग्य लोगों को भी प्री-कंस्यूशन खुराक प्राप्त हुई है। सभी पात्र लोगों का जल्द से जल्द टीकाकरण किया जाए। संभल, आगरा, रामपुर, जालौन आदि टीकाकरण में धीमी गति वाले जिलों के साथ संवाद करें। स्कूलों / कॉलेजों में विशेष शिविर आयोजित करें।

See also  Aam Aadmi Party का घोषणापत्र: 10 लाख नौकरी और 5,000 रुपये बेरोजगारी भत्ता देने का वादा

‘डरने की जरूरत नहीं, एहतियात बरतें’

पिछले 24 घंटे में 02 लाख 30 हजार 753 कोरोना टेस्ट किए गए, जिसमें 17,776 नए कोरोना पॉजिटिव मिले। इसी अवधि में 20,532 लोगों का इलाज किया गया और वे कोरोना मुक्त हो गए। वर्तमान में कुल एक्टिव केस 98 हजार 238 हैं। इनमें से 95 हजार 293 का घर पर इलाज चल रहा है। यानी साफ है कि बहुत कम लोगों को अस्पताल की जरूरत है। यह संक्रमण वायरल फीवर की तरह होता है। इसलिए इससे डरने की जरूरत नहीं है, बल्कि सभी सावधानियां बरतनी चाहिए।

अस्पताल में इलाज करा रहे कोविड पॉजिटिव लोगों के परिजनों से नियमित अंतराल पर संवाद करना चाहिए। होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ लेने वाले लोगों से संवाद करते हुए उन्हें चिकित्सकीय सलाह, दवाई आदि उपलब्ध करायी जाये। सीएम हेल्पलाइन से संवाद का यह क्रम निरंतर जारी रहे।

इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर्स को सक्रिय रखें

इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर पूरी तरह सक्रिय रहें। उनके कामकाज की समीक्षा मुख्य सचिव स्तर से की जाए। होम आइसोलेशन, मॉनिटरिंग कमेटियों से संवाद, एंबुलेंस की जरूरत और टेलीकंसल्टेशन के लिए अलग से नंबर जारी किए जाएं। जिला आईसीसीसी में डॉक्टरों का पैनल तैनात कर लोगों को दूरभाष की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। कोविड के इलाज में उपयोगी जीवन रक्षक दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।

Leave a Reply