Corona Live Update : पिछले हफ्ते सामने आए कोरोना के रिकॉर्ड मामले, आंकड़ा सुनकर होश उड़ जाएंगे

Corona Live Update : विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा कोरोना वायरस को लेकर जारी किए गए आंकड़े चिंताजनक हैं। पिछले हफ्ते दुनियाभर में 21 लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। यह आंकड़ा महामारी की शुरुआत के बाद से उच्चतम साप्ताहिक स्तर है।

WHO : कोरोना वायरस के प्रसार की रफ्तार चरम पर है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि पिछले सप्ताह दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के 21 मिलियन से अधिक नए मामले सामने आए, जो महामारी की शुरुआत के बाद से उच्चतम साप्ताहिक स्तर है। डब्ल्यूएचओ ने इस बात पर भी जोर दिया है कि कोरोन के डेल्टा संस्करण की तुलना में इसकी उच्च घातकता और प्रजनन दर के कारण ओमाइक्रोन धीरे-धीरे SARS-CoV-2 वायरस का प्रमुख संस्करण बन रहा है।

See also  Milk Price Hike : महंगाई को एक और झटका! फिर बढ़ेंगे दूध के दाम, अमूल के एमडी ने बताई वजह

50 हजार लोगों की हुई मौत

WHO की ओर से मंगलवार को जारी साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक 17 से 23 जनवरी के बीच वैश्विक स्तर पर कोरोना के नए मामलों में पांच फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई. दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित 21 मिलियन से ज्यादा नए मरीज मिले। वहीं, संक्रमण से 50 हजार से ज्यादा लोगों की मौत भी हुई। पिछले हफ्ते सबसे ज्यादा नए मामले अमेरिका (42,15,852), फ्रांस (24,43,821), भारत (21,15,100), इटली (12,31,741) और ब्राजील (8,24,579) में सामने आए।

यहां सबसे अधिक जानें

इस दौरान हुई मौतों की बात करें तो संक्रमण से सबसे ज्यादा मौतें अमेरिका (10,795), रूस (4,792), भारत (3,343), इटली (2440) और ब्रिटेन (1888) में हुईं। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि ओमाइक्रोन के यात्रा संबंधी मामले सामने आने के बाद कई देशों में इस प्रकार का सामुदायिक प्रसार शुरू हो गया है। हालांकि, जिन देशों में पिछले साल नवंबर-दिसंबर में ओमाइक्रोन के मामले तेजी से बढ़े, वहां या तो उनमें कमी आई है या कमी दिखाई देने लगी है।

See also  Fake Covid Vaccine Racket : नकली कोरोना वैक्सीन और टेस्टिंग किट बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, कई राज्यों में करनी थी सप्लाई

बढ़ते मामलों के बीच ढिलाई

उधर, नीदरलैंड ने सख्त पाबंदियों में ढील देनी शुरू कर दी है, जबकि देश में संक्रमण के मामलों में कोई कमी दर्ज नहीं की गई है. पिछले हफ्ते यहां रिकॉर्ड मामले सामने आए हैं। जानकारों का कहना है कि सरकार की यह जल्दबाजी बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकती है. नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रूट पर प्रतिबंधों में ढील देने का दबाव था और इसी के चलते उन्होंने प्रतिबंधों में ढील देने की घोषणा की है.

Leave a Reply