हरियाणा में भाजपा-जजपा मिलकर लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, उप-मुख्यमंत्री ने दी जानकारी

विधानसभा चुनाव | हरियाणा में वर्तमान में भाजपा सरकार की सहयोगी रही जजपा पार्टी के संस्थापक उप मुख्यमंत्री ने साफ निर्देश दिया है कि वह 2024 के आगामी चुनावों में राज्यसभा और विधानसभा के चुनाव भाजपा के साथ ही मिलकर लड़ेगी. भले ही दोनों पार्टियां चुनाव की तैयारी अलग-अलग करेंगे, परंतु चुनाव में एक साथ उतरेंगी. जजपा के संस्थापक उप मुख्यमंत्री ने बताया कि भाजपा और उनके पार्टी के रिश्ते में खटास नहीं है. जब तक संभव है वे दोनों मिलकर ही चुनाव लड़ेंगे.

जजपा पार्टी के संस्थापक दुष्यंत चौटाला ने कहा कि विरोधी पार्टी जैसे कांग्रेस, आम आदमी पार्टी व अन्य कई पार्टियो को अपनी चुनावी रणनीति को बदलना होगा और इसे बदलने के लिए मजबूर भी है. कांग्रेस का कहना है कि भले ही दोनों पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ रहे हो लेकिन इन दोनों पार्टियों का गठबंधन लंबे समय तक नही चलेगा. इससे पहले दोनों पार्टियों ने पिछले सालो के चुनावो में मिल कर आए हैं जिसमें नगर पालिका,नगर निगम व निगम पार्षद के चुनाव शामिल है.

See also  हरियाणा पंचायत चुनाव 2022: अनुसूचित जातियों और पिछड़ा वर्ग ए के लिए आरक्षित हुई सीटें, देखिए लिस्ट

आखिर चौटाला कब तक

निकाय व पंचायती राज्य  के चुनाव को लेकर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हम पहले भी चुनाव लड़ चुके ह. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी पार्टियां पहले कहती थी कि यह गठबंधन ज्यादा दिन तक नहीं चलेगा लेकिन गठबंधन 1 महीने नहीं 1 साल से ज्यादा चलता रहा है और दूर तक चलेगा. जब उन्हें आभास हो गया कि यह गठबंधन नहीं टूटेगा तो विरोधी दल कहने लगा कि अब यह सरकार नही टिकेगी. यह दल ऐलनाबाद के उपचुनाव भी मिलकर लङ चुका है. इस गठबंधन ने ढाई वर्षों तक बिना किसी विवाद के गठबंधन चलाया और आगे ढाई सौ वर्षो तक भी यह गठबंधन कायम रहा है.

See also  AAP ने जारी की 13 उम्मीदवारों की लिस्ट, जानिए किसे और कहा से मिली टिकट

आने वाले निकाय व पंचायत के चुनाव के लिए सरकार राज्य आयोग से सहमति ले चुकी है. गठबंधन को लेकर पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में केस लंबित है और 16 मई को इसकी सुनवाई है. चौटाला ने यह भी कहा कि आने वाले चुनावों के नए नियमों के तहत तैयारी की जाएगी. चुनावों के लिए हाईकोर्ट से मंजूरी भी  मिल चुकी है. राज्य के सभी जिलों के डीसी से मुलाकात करके रिपोर्ट मांगी गई है. डीसी की रिपोर्ट आने के बाद फिर चुनाव के लिए राज्य आयोग को अनुशंसा भेजी जाएगी.