Bank Latest Updates : एक से ज्यादा बैंकों में है अकाउंट तो हो जाएं सावधान! पैसा काटने समेत होगा ये बड़ा नुकसान

Bank Latest Updates : अगर आपने भी कई बैंक खाते खुलवाए हैं, तो आपके लिए काम की खबर है। कई बैंक खातों से आपको आर्थिक नुकसान हो सकता है। आइए जानते हैं एक से ज्यादा अकाउंट रखने के नुकसान।

Bank Latest Updates

नई दिल्ली: अगर आपके पास भी एक से ज्यादा बैंक अकाउंट हैं तो ये खबर जरूर पढ़ें. कई बैंक खातों के साथ, आपको वित्तीय नुकसान के साथ-साथ कई अन्य नुकसान भी हो सकते हैं। टैक्स और निवेश विशेषज्ञ भी सिंगल अकाउंट रखने की सलाह देते हुए कहते हैं कि सिंगल बैंक अकाउंट होने से रिटर्न फाइल करना आसान हो जाता है। आइए जानते हैं एक से ज्यादा अकाउंट रखने के नुकसान।

नुकसान क्या हैं?

अगर आप कई बैंकों में खाता रखते हैं तो सबसे पहला नुकसान मेंटेनेंस को लेकर होता है। दरअसल, हर बैंक का अपना अलग मेंटेनेंस चार्ज, डेबिट कार्ड चार्ज, एसएमएस चार्ज, सर्विस चार्ज, मिनिमम बैलेंस चार्ज होता है। यानी जितने बैंकों में आपके खाते हैं, उसके लिए आपको अलग-अलग चार्ज देने होंगे. साथ ही अगर मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं किया जाता है तो बैंक इसकी जगह हैवी चार्ज वसूलते हैं।

See also  Post Office Jobs : 10वीं पास के लिए पोस्ट ऑफिस में जॉब सैलरी 30,000 रुपये से शुरू करने में देरी न करें

सिंगल बैंक अकाउंट में रिटर्न फाइल करना आसान

टैक्स एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर आपके पास सिंगल बैंक अकाउंट है तो रिटर्न फाइल करना आसान है। क्योंकि आपकी कमाई की पूरी जानकारी एक ही खाते में उपलब्ध होती है। अलग-अलग बैंक खाते होने से यह गणना कठिन और बड़ी हो जाती है। ऐसे में टैक्स डिपार्टमेंट आपको नोटिस जारी कर सकता है। ऐसी ही समस्याओं के समाधान के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारन ने इस बजट में नई व्यवस्था की घोषणा की थी।

करदाताओं को देना होगा हिसाब

इस नए नियम के तहत वेतन आय के अलावा अन्य स्रोतों से आय की जानकारी जैसे लाभांश आय, पूंजीगत लाभ आय, बैंक जमा ब्याज आय, डाकघर ब्याज आय पहले से भरी जाएगी। अब तक करदाताओं को इसकी अलग से गणना करनी पड़ती थी। इसे भूलने के कारण उन्हें कई बार परेशानी होती थी। अब यह सारी जानकारी प्री-फिल्ड आ जाएगी। यह जानकारी पैन कार्ड की मदद से मिलेगी।

See also  अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे चंद्रशेखर आजाद, यूपी की सियासत में बड़ी उथल-पुथल के संकेत

खाता निष्क्रिय हो जाएगा

यदि बचत खाते या चालू खाते में एक वर्ष तक कोई लेन-देन नहीं किया जाता है, तो यह एक निष्क्रिय बैंक खाते में बदल जाता है। यदि दो साल तक कोई लेन-देन नहीं होता है, तो यह निष्क्रिय खाते या निष्क्रिय में परिवर्तित हो जाता है। ऐसे बैंक खाते से धोखाधड़ी की संभावना बढ़ जाती है। बैंकरों का कहना है कि इन सक्रिय खातों से आंतरिक और बाहरी धोखाधड़ी की संभावना सबसे अधिक होती है। ऐसे में उसका विवरण एक अलग बहीखाता में रखा जाता है।

निजी बैंक अतिरिक्त शुल्क लेता है

प्राइवेट बैंकों का मिनिमम बैलेंस चार्ज बहुत ज्यादा होता है। उदाहरण के लिए एचडीएफसी बैंक का मिनिमम बैलेंस 10 हजार रुपये है। ग्रामीण क्षेत्रों के लिए यह 5000 रुपये है। इस शेष राशि को बनाए नहीं रखने के लिए एक तिमाही के लिए जुर्माना 750 रुपये है। इसी तरह के शुल्क अन्य निजी बैंकों के लिए भी लागू होते हैं। अगर आप गलती से मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करते हैं तो आपको बेवजह हर महीने सैकड़ों रुपए चुकाने पड़ सकते हैं। यह आपके सिबिल स्कोर को भी प्रभावित करता है।

See also  Omicron Variant: ओमिक्रोन वेरिएंट के मरीजों के लिए बहुत असरदार है Steam, जानें इसके फायदे

हजारों का नुकसान होगा

यदि आपके पास कई बैंक खाते हैं, तो न्यूनतम शेष राशि बनाए रखने के लिए हर महीने हजारों रुपये खर्च किए जाएंगे। यह आपके निवेश को प्रभावित करता है। जिस पैसे पर आपको कम से कम 7-8 फीसदी रिटर्न मिलना चाहिए, वह पैसा आपके मिनिमम बैलेंस के तौर पर रखा जाएगा। इस पैसे को सही जगह निवेश करने पर 7-8 फीसदी तक का रिटर्न आसानी से मिल सकता है।

Leave a Reply