Animation course: 12वीं के बाद चुने बेहतर करियर ऑप्शन, बनाए अपना फ्यूचर, जानें कितनी होगी सैलरी, कौन से है बेस्ट कॉलेजेस

career option: युवकों के इंटरेस्ट को देखते हुए और डिजिटल दुनिया के स्पेशल एफेक्ट्स की खास एहमियत को देखते हुए एनीमेशन (Animation) सबसे अच्छा ऑप्शन बन गया है. पिछले कुछ सालों में युवाओं का इस फील्ड की तरफ आकर्षण और इंटरेस्ट बड़ा है. इसकी सबसे बड़ी वजह हाई ग्रोथ और अधिक सैलरी है. फिल्म, टेलीविजन, विज्ञापन जैसे कई क्षेत्रों में एनीमेशन का बोलबाला है. यदि आप भी ऐसे करियर की खोज में जिसमें ज्यादा सैलरी की ऑपर्च्युनिटी हो तो आप एनीमेशन फील्ड में अपना करियर बना सकते है.

आखिर एनीमेशन क्या है?

किसी भी ड्राइंग कैरेक्टर को चलते हुए या मुफ करते हुए दिखाना एनिमेशन कहलाता है जब हम किसी ऑब्जेक्ट को एक जगह से दूसरे जगह पर ले जाते हैं तो वह प्रक्रिया एनिमेशन कहलाई जाती है. एनीमेशन में डिजाइन, ग्राफिक्स, लेआउट जैसे बहुत से टूल्स का इस्तेमाल कर एनीमेशन किया जाता है.

तकनीकी बदलाव

पहले हम कागज पर चित्र बनाकर उसका प्रिंट आउट लेते थे. पर समय के साथ एनीमेशन में की जाने वाली तकनीक में बदलाव हुआ. अब हम कंप्यूटर पर ही चित्र बनाकर प्रिंट आउट निकाल लेते है.

See also  Breaking News: सभी राज्यों के स्कूल अगले 2 सप्ताह तक बंद, सरकारी आदेश जारी

एनीमेशन कितने प्रकार होते है?

एनीमेशन के 5 प्रकार होते है:

ट्रेडिशनल एनीमेशन: ट्रेडिशनल एनीमेशन में कैरेक्टर, बैकग्राउंड, लेआउट पर ड्रॉ करने के बाद ट्रांसपेरेंट शीट पर प्रिंट किया जाता था. बहुत पहले इस तकनीक का इस्तेमाल होता था. Disney के पुराने कार्टून्स में इस तरह के एनीमेशन का यूज होता था. पर अब इस तकनीक का इस्तेमाल नहीं किया जाता है, इसकी जगह पर डिजिटल एनीमेशन का यूज होता है.

2D एनीमेशन: इसका मतलब है टू डाइमेंशनल एनिमेशन, वैसे तो यह वेक्टर (vector) पर आधारित डिजिटल तकनीक है. एनिमेटेड मूवी, टेलीविजन शो, वीडियो गेम्स, वेबसाइट, मोबाइल एप में इसका यूज होता है.

3D एनीमेशन: इसमें सभी ऑब्जेक्ट्स थ्री डाइमेशनल स्पेस में दिखाई देते है. ऑब्जेक्ट्स ऐसे रोटेट होते है मानो जैसे रियल हो. आज के समय में फिल्मों में इसका इस्तेमाल होता है. इसके लिए खास टेक्निकल स्किल की आवश्यकता होती है.

मोशन ग्राफिक्स एनीमेशन: electronic media technology के मध्यम से इस तरह के एनीमेशन को डिस्प्ले किया जाता है. ये किसी एनीमेशन के छोटे-छोटे पार्ट होते है.

स्टॉप मोशन एनीमेशन: ये एनिमेटेड फिल्म मेकिंग तकनीक है, जिसे स्टॉप फ्रेम एनीमेशन भी कहते है. इसमें एक बार में किसी फ्रेम को सिर्फ एक बार कैप्चर किया जाता है.

See also  School Reopen: 86 दिन बाद खुलेंगे हरियाणा के स्कूल, अभिभावकों की अनुमति पर ही मिलेगा स्कूल में प्रवेश

एनीमेशन टॉप कोर्स की लिस्ट

डिप्लोमा इन VFX

डिप्लोमा इन 3D animation and VFX

बैचलर इन विजुअल आर्ट्स

बैचलर ऑफ डिजाइन इनोवेशन-एनीमेशन और विजुअल एफेक्ट्स

बीएससी एनीमेशन

बीएससी एनीमेशन ऐंड VFX

बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स इन एनीमेशन

बीए इन 2D एंड 3D animation

मास्टर इन विजुअल आर्ट्स

मास्टर ऑफ साइंस एनीमेशन एंड VFX

गेमिंग VFX

एडवांस प्रोग्राम इन VFX

VFX प्लस

VFX इन फिल्म मेकिंग

एनीमेशन कोर्स के लिए टॉप संस्थान

सेंट जेवियर्स कॉलेज

नेशनल फिल्म एंड फाइन आर्ट इंस्टीट्यूट

एरिना एनीमेशन

एफएक्स स्कूल

माया इंस्टीट्यूट ऑफ़ एडवांस सिनेमैटिक

पिकासो एनीमेशन कॉलेज

मायाबियस एकेडमी स्कूल ऑफ़ एनीमेशन एंड विजुअल एफेक्ट्स

टून्ज़ एकेडमी

नेशनल डिजाइन इंस्टीट्यूट

बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी

दिल्ली फिल्म इंस्टीट्यूट

एनीमेशन एंड गेमिंग एकेडमी

इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट

सैलरी

शुरुआती दौर में 35-50 रुपए तक वेतन मिल जाता है. इस फाईल में औसत वेतन 5-10 लाख रुपए सालाना है. विदेशों में स्किल्ड प्रोफेशनल की मांग भी काफी है. विदेशों में 25 से 35 लाख रुपए सालाना ऑफर किया जाता है. विदेशों में स्किल्ड प्रोफेशनल की मांग भी काफी है.