हरियाणा का एक ऐसा गांव जहां बच्चों को पसंद है सरकारी स्कूल, नंबर वन स्टैंडर्ड की अंग्रेजी बोलते हैं

फतेहाबाद जिला मुख्यालय से दस किलोमीटर दूर।. लगभग तीन हजार की आबादी वाला हरियाणा का एक गांव ढाणी ढाका.  गांव के निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से रमेश का बेटा दिव्य अपनी बड़ी बहन रश्मि से कह रहा है-Di, please help me. I am already fifty minutes late for school… (बहन, मेरी मदद करो, मैं पहले ही स्कूल के लिए पंद्रह मिनट लेट हो गया हूँ।) बड़ी बहन की मदद से दिव्य स्कूल की ओर चला जाता है.

निजी स्कूल को दें रहा टक्कर

सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले ढाणी ढाका गांव के कई बच्चों द्वारा अंग्रेजी में बातचीत और निजी स्कूल के बच्चों के साथ प्रतिस्पर्धा करने वाली शिक्षा का स्तर इस गांव के लोगों की सोच का मीठा फल है। सोच यह है कि वह स्वयं अपने भाग्य का निर्माता है। संदेश यह है कि एक सुशिक्षित समाज के निर्माण के लिए सामाजिक भागीदारी आवश्यक है।

See also  पिता की मर्जी के आगे भारी पड़ गया बेटे का प्यार, मोहब्बत के लिए प्रेमी ने ठुकराए 24 लाख रुपऐ, पढ़े दिलचस्प प्रेम कहानी

ग्रामीणों ने शिक्षा के माध्यम से अपना भविष्य तय करने का जुनून लिया। गांव में शिक्षा सुधार के लिए ग्रामीणों ने तीन साल पहले एजुकेशन रिफॉर्म एंड वेलफेयर सोसाइटी का गठन किया था। सोसायटी के मुखिया विनोद कुमार के मुताबिक बैठक के बाद तय हुआ कि इस गांव का कोई भी बच्चा किसी निजी स्कूल में पढ़ने नहीं जाएगा.

शिक्षकों की कमी भी दूर

अब चुनौती यह थी कि आठवीं तक का यह सरकारी स्कूल केवल तीन शिक्षकों के साथ कैसे चलगा? इसलिए, ग्रामीणों ने अपने बल पर दस निजी शिक्षकों को स्कूल में उनकी पढ़ाई में सहायता करने के लिए काम पर रखा। कुछ सरकारी सहयोग और शेष दान राशि से उन्होंने अपने दम पर एक लाख प्रतिमाह वेतन देना शुरू कर दिया। माध्यमिक शिक्षा सरपट दौड़ी। गांव के महेंद्र का कहना है कि उन्होंने गांव के ही इस मिडिल स्कूल में अपने दो बच्चों का दाखिला करा दिया है. कारण यह है कि यहां शहर के निजी स्कूल से बेहतर शिक्षा और संस्कार मिल रहे हैं। इस शैक्षणिक सत्र में अब तक 310 बच्चों ने नामांकन किया है।

See also  रोडवेज बस मे हुआ बच्चे का जन्म, गर्भवती महिला को जींद से हिसार किया रेफर पहुंच गई रोहतक

ये हैं सुविधाएं

  • स्कूल में लगे सीसीटीवी कैमरे
  • बच्चों और शिक्षकों के लिए ड्रेस कोड
  • खेल के मैदान की सुविधा
  • स्कूल के समय में किसी को भी अंदर जाने की अनुमति नहीं
  • माता-पिता को भी प्रवेश के बाद मिलती है अनुमति
  • ढाणियों से बच्चों को लाने के लिए वैन की सुविधा