622 शिक्षकों का हुआ तबादला, इन दो जिलो में नही होगी अध्यापकों की कमी

शिक्षकों का तबादला | चयनित शिक्षकों के लिए विभाग की ओर से कुछ नियम बनाए गए हैं. चयनित अध्यापकों का कार्यकाल एक अप्रैल, 2022 से 31 मार्च, 2023 तक रहेगा. मेवात और मोरनी में शिक्षकों की कमी को दूर करते हुए शिक्षा विभाग ने 622 शिक्षकों का तबादला आदेश जारी कर दिया है. विभाग ने कुछ अतिरिक्त सुविधाएं देते हुए वहां नौकरी करने के इच्छुक शिक्षकों से आवेदन मांगे गए थे. शिक्षकों से बाते करके ही आयोग ने ये लिस्ट जारी की है.

मेवात काडर और मोरनी ब्लॉक के लिए कुल 170 पीजीटी, 163 टीजीटी और 796 पीआरटी ने आवेदन किया. जिनमें से 107 पीजीटी 109 टीजीटी और 406 पीआरटी को स्टेशन अलॉट किए गए हैं. जिन आवेदक शिक्षकों को स्टेशन अलॉट नहीं हुए हैं. इनसे दोबारा आवेदन मांगकर स्टेशन दिए जाएंगे. मतलब ये हैं की इन जगहों पे शिक्षकों की कमी चल रही हैं. जिसको दूर करने के लिए मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री प्रयास कर रहे हैं. जल्द ही विभाग की और से प्रदेशों के स्कूलों में शिक्षकों की कमी को दूर कर दिया जाएगा.

See also  हरियाणा सरकार घर की मरम्मत के लिए दे रही है 80 हजार रुपए, तुरंत लें योजना का लाभ

शिक्षकों के लिए बनाए गए नियम

चयनित शिक्षकों के लिए विभाग की ओर से कुछ नियम बनाए गए हैं. जिसमे शिक्षकों का कार्यकाल 1 अप्रैल 2022 से 31 मार्च 2023 होगा. जो शिक्षक स्थायी तौर पर मेवात के लिए चयनित हैं. उनको अपनी वर्तमान की वरिष्ठता छोड़नी पड़ेगी तथा मेवात की वरिष्ठता को ग्रहण करना पड़ेगा. इसके बारे में शिक्षक को एक सत्यापन पत्र भी विभाग को देना होगा.

स्थायी शिक्षक जो डेपुटेशन आधार पर मेवात या मोरनी के लिए चयनित हूगे, उन्हें बेसिक वेतन और महंगाई भत्ते का 10 फीसदी अतिरिक्त भुगतान किया जाएगा. मेवात और मोरनी के लिए चयनित शिक्षक डेपुटेशन के दौरान ट्रांसफर ड्राइव में भाग नहीं लेंगे.