फरवरी के बाद नही चलेगें 15 साल पुराने वाहन, देखिए क्या है विकल्प

चंडीगढ़ | एनसीआर क्षेत्र में शामिल हरियाणा के 14 जिलों में करीब 6 लाख वाहनों का रजिस्ट्रेशन खतरे में है. इन वाहन मालिकों के पास केवल तीन महीने बचे हैं। या तो अपने पुराने वाहनों को एनसीआर क्षेत्र के बाहर बेच दें या उन्हें स्थानांतरित कर दें। इस समयावधि के बाद अगर एनसीआर में सड़कों पर घूमते पाए गए तो चेकिंग टीम सीधे जब्त कर लेगी। पुराने वाहनों से बढ़ते प्रदूषण के स्तर को देखते हुए ऐसी सख्त कार्रवाई अमल में लाई जा रही है.

हरियाणा परिवहन आयुक्त ने पत्र संख्या 1119/11/105/2022/5942/1/6/डीटी 2/12/21 के तहत जारी आदेशों में कहा गया है कि 10 साल पुराने डीजल और 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों को भी एनसीआर से डी-रजिस्टर कर दिया गया है. ऐसे वाहनों का ई-परिवहन पोर्टल पर स्वत: डी-पंजीकरण (डी-पंजीकरण) से पहले, उनके मालिकों को सतर्क रहने की जरूरत है।

See also  सीएम ने की घोषणा अब नहीं हटाए जाएंगे कच्चे कर्मचारी, मिलेगी ये सभी सुविधाएं

आदेश जारी:

परिवहन विभाग द्वारा जारी आदेशों में कहा गया है कि जिन लोगों के पास एनसीआर क्षेत्र में ऐसे वाहन हैं, उन्हें 3 मार्च 2022 से पहले बेच दिया जाए या बाहरी जिलों में स्थानांतरित कर दिया जाए. इसके लिए 3 दिसंबर से 3 मार्च तक का समय रखा गया है। इसके बाद वाहन स्वत: ही डी-रजिस्टर हो जाएंगे। वाहन मालिक इन वाहनों को ट्रांसफर/बेच नहीं पाएंगे और ये कबाड़ हो जाएंगे।

आदेशों में कहा गया है कि 3 मार्च के बाद ऐसे वाहनों को किसी भी हाल में एनसीआर क्षेत्र में नहीं चलने दिया जाएगा. यदि ऐसे वाहन सड़कों पर चलते पाए जाते हैं तो उन्हें तत्काल जब्त कर लिया जाएगा।

See also  मुख्यमंत्री का बड़ा ऐलान SC उम्मीदवारों को मिलेगा 20 फ़ीसदी आरक्षण

यहा के वाहनों पर संकट

एनसीआर में शामिल हरियाणा के 14 जिलों में पुराने वाहनों के डी-पंजीकरण का खतरा मंडरा रहा है. इनमें गुरुग्राम, फरीदाबाद, पलवल, मेवात, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, भिवानी, चरखी दादरी, झज्जर, रोहतक, सोनीपत, पानीपत, करनाल और जींद शामिल हैं।

अंतिम चेतावनी

एनसीआर क्षेत्र में शामिल इन जिलों में 10 साल पुराने डीजल और 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों के इस्तेमाल पर रोक लगाने का यह पहला आदेश नहीं है. लेकिन परिवहन आयुक्त द्वारा जारी की गई चेतावनी को अंतिम माना जा सकता है।

Leave a Reply